Historians tell-4 Sent by Sh. Tararam via email Know your history-42

Saturday, April 29, 2017

Historians tell-4
Sent by Sh. Tararam via email
Know your history-42
बॉम्बे में रहने वाले मेघवालों पर 1936 में एक शोधपूर्ण अध्ययन प्रकाशित हुआ था। श्री बी. एच. मेहता द्वारा पीएच. डी. उपाधि हेतु बॉम्बे यूनिवर्सिटी में प्रस्तुत किये गए- "The Social and Economic conditions of the Meghval Untouchables of Bombay city (with special reference to the community centre at Valpakhadi)" शोध प्रबन्ध का प्रकाशन दो भागों में हुआ। यह एक महत्त्व पूर्ण शोध था जो आजादी से पहले मेघवालों पर हुआ। इसमें मेघों के बारे में ऐतिहासिक विश्लेषण है एवं इसमें विश्लेषित तथ्यों को सर्वेक्षण के द्वारा भी पुष्ट किया गया। जिसे पुस्तक में 547 पृष्ठों में दर्ज किया गया।
संदर्भित पुस्तक का सार-संक्षेप (Abstract) निम्नवत है:
Methodology- Historical/Survey method.
"The thesis has been divided into two volumes containing ten chapters in all, in which the author has discussed the social and economic aspects of Meghvals such as their origin, the reasons for their migrations to Bombay, their social organizations, such as marriages, family, caste panchayat and their social disabilities, their economic life, income and indebtedness, housing, health, education, and has ended with suggestions for solving their socio-economic problems. The author has elaborately discussed all these problems in most lucid manner with numerous graphs, charts, diagrams, and pictures, giving a graphic idea of their social and economic life."
The author has divided untouchables in two groups on languages - 1.Marathi and 2.Gujarati. The author has selected Gujarati speaking group of Meghvals. With other reasons he records following reasons for his study: first, the Meghvals are the most numerous of the untouchales from Gujarat. Secondly, the Valpakhadi was the locality in which the largest number of Meghval families have congregated together; besides, it has within its area of the chief temple of the Meghvals- the religious headquarters of the community. Thirdly, the centre also claims within its boundaries the largest number of children, offering suitable opportunities for a detailed study of the problems connected with primary education."
"The study refers only to the community known as the Dhers who call themselves Meghvals. They belong to different villages of Kathiawar. In all, the author has collected data from 282 families consisting of 1649 persons, 833 males and 816 females."
Origin of Meghwals- Megh Rishi From Punjab-
"About the origin of the Meghvals the author tells us that the Dhers from Kathiawar always calls themselves Meghvals; they claim to be descendants of Megh, a Rishi (saint) who lived in Punjab, and the word Val means descendants."
They were called Kathi in Saurashtra- Author also inform us that "some of them claim that they occupied Saurashtra along with Kathis and were later thrown in the background by the Mohammedans."
Occupation-
"They also claim to have been weavers by occupation. In their native places they were mostly engaged as field labourers only during cutting season." "The majority of the untouchables of Kathiawar lived in condition of humiliations and social and economic boycott at the hands of the high caste Hindus for many centuries."
Migration from Punjab to Kathiawar and Kathiawar to Bombay-
Author reveals that these Meghwals are migrated, first, from Punjab to Kathiawar and second, from Kathiawar to Bombay. The author tells- "under such servile conditions with an environment against their well-being, and the burdon of social tyranny which deprived these people of their fundamental rights as human being is no wonder that Meghvals should migrate to places where they may be at least left alone to eke out their livelihood as human beings."
"The Meghvals who migrated to Bombay belong to the important sections of the Kathiawar, viz, Chorasi, Banseth, and Sol, Amreli prant and Valaki Desh."
The author reveals that- "In order to organise its health and sanitary in 1882, it was felt necessary by the Bombay Municipality to recruit conserving staff, for various conservancy functions. The local supply of labour proved inadequate, so the Health Department of Bombay Municipality secured most of its labour from from Kathiawar in Gujarat and Konkan in Maharashtra. This gave opportunity to the Meghvals of Kathiawar, who were living a miserable life of utter poverty in their villages, to migrate to Bombay in large numbers to seek employment in Bombay Municipality."
Marriage and Divorce-
The author stated that "Amongst the Meghvals marriage is a union regulated by traditions and sanctified by religion. Marriage is regarded with awe and reverence, and is considered binding till death, unless the wedlock is terminated by divorce. The author observes, in spite of this seemingly binding nature of marriage, it is more or less free; for sometimes it is such a transient that it can be easily terminated at the wish of either parties."
"Divorce is common among Meghvals. The most usual cause of divorce is differences between husband and wife and members of her husband's family, excessive ill-treatment on the part of husband or immorality of the wife. In case of divorce the girl's father has to deposit a sum of Rs.50 to the caste Panch and surrender the bride price. In respect of grant of divorce, the voice of the Panch prevails and the decision is more or less binding on both the parties."
Family-
"The Meghvals family is patriarchal. The Hindu joint family prevails among them. The women is respected in the family and she is supposed to work to augment family income. The birth of a male child is preferred to a female child. The infirms and old are protected by the family."
Livelihood-
"The majority of them earn their livelihood by working in one or other service of the Health Department of the Bombay Municipality... their economic condition is very poor and their present employment does not give better scope for improvement in this respect. Hence, there is a general trend among the younger generation, with the growth of education, to leave their present occupations."
Indebtedness and other issues have also been discussed by the author with facts and figures with suggesting remedial course of action to be taken by government as well as by the community. The auther tells that total indebtedness of 282 households was 195510 or 325.8 per household. Indebtedness is the economic death-grip and then it does not fail to seize the inheritor. Many a young man pays with reluctance the supposed debts of his father, and this puts an end to the solvency of his house.
While discussing the house problems of Meghvals, the author tells us that they live in most unhygienic conditions, "out of total number of 343 families at Valpakhadi, only eleven joint families occupied two separate tenements, not necessarily adjoining the rest. Thus there is an average number of 4.7 persons per room." The most important causes of overcrowding amongst them were shortage of housing arrangements and the strange mentality of the community to live together and also they preferred to live in Chawls owned by the Municipality, as it was easier to obtain employment in the Health Department for their sons, daughters and other relatives, if they remained in close contact with Ward Officers."
Considering a literate person as one who is able to read and write his own name, the author tells us that percentage of literacy comes to 37.4% for males and 6.3% in females.
Social Organizations-
The author has also described various social organizations prevailing among the Meghvals of Bombay. The author tells us- " though the social institutions of Meghvals may have failed to great extent to serve the interest of the community, they have always been ready to assist progressive and reformist measures" and he adds: "The power of tradition and custom is weak, and is increasingly diminishing day by day. There is hardly any organised orthodox sector amongst Meghvals. Whatever opposition exists, is immediately put down by a vocal and aggressive youth section." He further states that- "the greatest hope for the future welfare of Meghvals lies in this progressive section (youth) of the community."
Religion-
About their religion author says that, “Their religious beliefs and forms of worship appeared highly complex and contradictory. It is mixture of magic, animism, and worship of deities and Pirs (Ramdevji Pir). The worship of matas is also widespread among them. The idol of Vishnu takes the most honoured place, together with the idol of Krishna in the Laxminarayan Temple."
"Their belief in animistic spirits and need for their propitiation has given rise to medicine-man, known as bhuvo. One who practices black magic is called Judiyan. There were at least eight medicine men among them. All of them was considerable. They have also there priest to perform various religious ceremonies like other Hindus."
"They celebrate usual pomp and gaiety all the Hindu such as Navratri, Diwali, Gokul Ashtami, Holi and so on. The month of Shrawan was held sacred by them and they observed fasts on Mondays."
Conversons-
"The author narrates the circumstances under which some Meghvals were converted to Christianity by the Methodist Church and says that it was difficult to determine the total number of Meghval Christian families in Bombay. ...There were other forces also at work to convert them into other religions such as Islam and Buddhism but majority of them in spite of their social degradation in Hindu society, prefer to remain in Hindu fold."
Degradedness and Disabilities of the Community-
The author has also discussed various prohibitions and disabilities imposed upon the Meghval community in length and observed in this regard that the treatment received by the Meghvals during the many years of social tyranny would have deteriorated the moral of any community, or it might have driven them to open revolt in order to secure their emancipation. But this caste seem to have suffered its humiliation in silence.
He has also discussed contemporary social reform activities in his book and concluded with certain suggestions.
I think that it is more precious and authentic work carried out in the beginning of twentieth century from historical, social, economic and political point of view,
Reference: "The social and Economic conditions of the Meghval Untouchables of Bombay City." (Two Volumes)
Author: B.H. Mehta
Pages: 547
Publisher: Bombay University, Bombay, 1936


Share/Bookmark

History of Jammu and Kashmir and MEGHS

Know your history-40
(Frederic Drew की पुस्तक के पृष्ठ 55-57 तक का अनुवाद)
अंत में वे जातियाँ आती हैं जिन्हें हम अंग्रेज़ सामान्यतः हिंदुओं की 'निम्न जातियाँ' कहते हैं लेकिन ऐसा किसी हिंदू के मुँह से नहीं सुना जाता; उन्हें हिंदू के तौर पर कोई मान्यता नहीं दी जाती; उन्हें हिंदुओं में नीचा स्थान भी प्राप्त नहीं है. उनके नाम हैं मेघ और डूम और मेरा विचार है कि इनमें धियार नामक लोगों को भी शामिल करना चाहिए जिनका पेशा लोहा पिघलाना है और जिन्हें आमतौर पर उनके साथ ही वर्गीकृत किया जाता है.
ये कबीले आर्यों से पहले आने वाले कबीलों के वंशज हैं जो पहाड़ों पर रहने वाले थे जो हिंदुओं और आर्यों द्वारा देश पर कब्ज़ा करने के बाद दास बना लिए गए थे; आवश्यक नहीं था कि वे किसी एक व्यक्ति के ही दास हों, वे समुदाय के लिए निम्न (कमीन) और गंदगी का कार्य करते थे. उनकी स्थिति आज भी वैसी है. वे शहरों और गाँवों में सफाई का कार्य करते हैं*. (* मेरा विचार है कि धियारों का रोज़गार ऐसा कम है कि वे जातीय रूप से मेघों और डूमों से जुड़े हैं.) डूमों और मेघों की संख्या जम्मू में अधिक है और वे पूरे देश, जो निचली पहाड़ियों और उससे आगे की ऊँची पहाड़ियों, में बिखरे हैं. वे ईँट बनानें, चारकोल बर्निंग और झाड़ू-पोंछा जैसे रोज़गार से थोड़ी कमाई कर लेते हैं. इन्हें प्राधिकारियों द्वारा किसी भी समय ऐसे कार्य के लिए बुलाया जा सकता है जिसमें कोई अन्य हाथ नहीं लगाता.
केवल उनके द्वारा किए जाने वाले ऐसे श्रम की श्रेणी के कारण ही ऐसा है कि उन्हें एकदम अस्वच्छ गिना जाता है; वे जिस चीज़ को छूते हैं वह गंदी प्रदूषित हो जाती है; कोई हिंदू सपने में भी नहीं सोच सकता कि वह उनके द्वारा लाए गए ऐसे बर्तन से पानी पीएगा जिस बर्तन को एक सोंटी के किनारे पर लटका कर ही क्यों न लाया गया हो. जिस गलीचे पर अन्य बैठै हों वहाँ इन्हें कभी आने नहीं दिया जाता है. यदि संयोग से उन्हें कोई कागज़ देना हो तो हिंदू उस कागज़ को ज़मीन पर गिरा देगा और वहाँ से वह उसे ख़ुद ही उठाएगा; वह उन्हें उनके हाथ से नहीं लेगा.
मेघों और डूमों के शारीरिक गुण भी हैं जो उन्हें अन्य जातियों से अलग करते हैं. उनका रंग सामान्यतः अधिक साँवला होता है जबकि इन क्षेत्रों में उनका रंग हल्का गेहुँआ होता है, इनका रंग कभी इतना साँवला भी हो सकता है जितना दिल्ली से नीचे के भारतवासियों में है. मेरा विचार है कि आम तौर पर इनके अंग छोटे होते हैं और कद भी तनिक छोटा होता है. अन्य जातियों की अपेक्षा इनके चेहरे पर कम दाढ़ी होती है और डोगरों के मुकाबले इनका चेहरा-मोहरा काफी निम्न प्रकार का है, हालाँकि इसके अपवाद हैं जिसका कारण निस्संदेह रक्तमिश्रण है, क्योंकि दिलचस्प है कि अन्य के साधारण दैनिक जीवन से इनका अलगाव उस कभी-कभार के अंतर्संबंधों को नहीं रोकता जो अन्य जातियों को आत्मसात करता है.
डूमों के मुकाबले मेघों की स्थिति कुछ वैसी है जैसे हिंदुओं में ब्राह्मणों की, उन्हें न केवल थोड़ा ऊँचा माना जाता है बल्कि उन्हें कुछ विशेष आदर के साथ देखा जाता है.
जम्मू-कश्मीर के महाराजा (गुलाब सिंह) ने इन निम्न जातियों की स्थिति में सुधार के लिए कार्य किया और सैंकड़ों लोगों को सिपाही के तौर पर खुदाई और खनन कार्य के लिए भर्ती किया. इन्होंने कुछ नाम कमाया है, वास्तव में युद्ध के समय ऐसा व्यवहार किया है कि उन्हें सम्मान मिला है, उच्चतर जातियों के समान ही अपने साहस का परिचय दिया है और सहनशक्ति में तो उनसे आगे निकले हैं.
इस प्रकार हम देखते हैं कि डूगर के अधिसंख्य लोग हिंदू हैं जिनमें पुराने कबीलों के भी लोग हैं. वे किस धर्म से संबंधित हैं यह नहीं कहा जा सकता........
(From 'The Jummoo and Kashmir Territories, A Geographical Account' by Frederic Drew, 1875)

The BookReader requires JavaScript to be enabled. Please check that your browser supports JavaScript and that it is enabled in the browser settings. You can also try one of the other formats of the book.
ARCHIVE.ORG



Historians tell-3
Know your history-34
'Global Encyclopedia of the North Indian Dalits- Ethnography' में उत्तर भारत विशेषकर जम्मू-कश्मीर आदि क्षेत्रों में बसे मेघों के बारे में निम्नलिखित विवरण है-
"MEGH"
Demography-
"The megh claim an ancient origin and they seem to be the original inhabitants of the Jammu region and the owners of land in this tract. They are distributed in the state of Jammu and Kashmir, HimachalPrades, Chandigarh and punjab...They are predominantly found in Rural Areas. Their major concentration is in Jammu, Rabisinghpura, and Akhnoor tehsil of Jammu. They are also concentrated in Ambala, Kurukshetra, Rohtak and Hissar in Haryana. They are also found in all districts of Punjab but their major concentration is in the district of Gurdaspur and Ferojpur. The Megh in Himachal Pradesh are mostly confined to lower hill ranges of Kangra, adjoining Punjab and to some extent to the Chamba district."
Settlement:
"The Meghs are inhabitants of the plains and hills between the Ravi and Chenab rivers, except Akhnur which lies to the west of the latter river. Over 60% of them live in the fertile plain irrigated by canals and kuhis (water ducts), whereas 20% of inhabit the high forest covered tract to north and northeast of Jammu. They are found distributed over the dry kandiliaa also. Inspite of difference of natural environment, there is practically no difference in their life pattern."
Dress Ornament:
"The members of community do not wear any distinctive dress or marker but like general Hindu Classes-----------.The state government has now accorded them constitutional status of a Scheduled Caste and they have been enjoying special benifit and privileges under the provisions-------------"
Food and Drinks:
"The Megh, except their sub caste Basith, used to eat flesh of dead animals, but by a contract or decision signed in 1879 through the influence of their Guru of Keran in Jammu tehsil, who had been religious head of the Megh community, they pledged total abestation from it. A breach of this agreement made a man liable to pay Rs.25/ to the government, Rs.5/- to the head of village and a some fixed according to the means of offender, as a penalty to the biradari. In default of payment, he was liable to be excluded from the Megh community. With this change, the Meghs are becoming vegetarian like other Hindu communities. Their womenfolk usually, and men on certain occasions avoid taking non-vegetarian diet. Rice and wheat and makkie (Maize) from their staple food, pulses, particularly mah and masur and all type of vegetables are now available to them in villages. They have no particular liking for alcoholic drinks, but occasionally indulge in it publicly on festive occasions, as such birth of son, marriage, fairs and festivals. They used country made alcoholic drinks and did not have any prejudice against preparing at home. Now the spread of modern ideas in community and as result of constitutional benefits the community has come out of much of its backwardness and adopted food habits as in all the other Hindu Communities of the state."
History of origin-
"They believe to have migrated from Jammu to which they originally belonged four to five hundred years ago. Due to change in ruler, they migrated to different neighbouring areas. It is said that Raja Barar of Akhnoor gave them land but, owing to attacks during Sikh rule they migrated to the hills, west Punjab, Rajasthan, Punjab and Harysna. Those who stayed back became Muslims and are known as Dindaur. The local chronicles of Jammu support this view and they are stated to be the original occupants of Jammu territory before migrating Jamwal ruling clans ousted them from power and subjugated them. This according to the Jamwal Vanshavali, happened much before the Christian Era. In some details, the Megh traditions support their close connection with Jammu region since a hoary past."
Social System: Kinship-
"The community is divided into different clans like Bakarwal, Gandhi, Tindu, Chopre, Batten, Kale, Kunmunde, Gotre, Tilar, Gidar, Tilchate, Bhardwaj, Pachada, Malhotra, Singotra. They are further divided into Hindu Megh and Sikh Megh. The basis of differentiation is religious and the chief function of this class or gotras is to regulate marriage alliances. They consider themselves equal to Julaha or Kabirpanthis and superior to Chura, Chamar, Deha and other S/Cs. They are inferior to Brahman, Rajput and other caste Hindu. They are aware of the Varna System and recognize their place in it as Shudra. Others also consider them of low status as that of Julaha. Many consider them Julaha only."
Marriage and Divorce-
"They are endogamous at community level and exogamous at village, and at gotra level. The village exogamy is not strictly observed now. Earlier four gotras were avoided like that of self, mother's, paternal and maternal grandmother. But now only the self gotra is avoided. Marriages are negotiated by the elders, when the boy attains the age of around eighteen years and the girl is around sixteen years. Monogamous form of marriage are prevalent. Sindur, bindi and bangles are the symbols of marriage. Kanyadan exists and dowry is given in the form of household articles and some cash. Rule of residence is patrilocal."
"The Divorce is traditionally not allowed. The young widow and widower are allowed to remarry in case of willing and young individuals. Junior levirate and junior sororate are permissible. There is no proper marriage in this regard and is called Bethana. Change of marriage rule is observed in leaving self gotra only, increase in marriage age and non observance of marriage symbols strictly. The marriage symbols are observed only during fairs, festivals, marriages and joyous occasions and family gatherings."
"Widow marriage is permitted. But the chance is limited to the deceased's elder or younger brother, failing which, she can, with the consent of her guardian, marry any belonging to the gotra of her husband, the man must bear all the experiences of marriage, or he must give his sister or daughter or any other near relative to some male member of the widow's household in exchange. When a widow declines to remarry, provision for the necessities of her life is arranged out of contributions made by biradari of the village and she is held in high esteem.
Family-
"The megh family is patrilocal in which proper reverence and respect and affiliations are observed according to the status of all members."
Occupational Activities-
"The Meghs are primarily an agricultural community. Formerly, they were owners of the land in this tract but, because of high handedness and oppressions of the ruling tribes, most of them have been deprived of large tract of agricultural land. Till recently, the Megh families were petty landholders, but majority of them had been rendered landless, though they still stuck to the agriculture occupation and mostly work as tillers and agriculture workers. However, recent agrarian reforms in the state and also as constitutional benefits, there has been much amelioration in their economic condition. Most of their families have received small agricultural lands and have purchased additional tracts."
"The land in the Megh family is owned, as in case of other Hindu communities of the area, by the eldest male of family, and is equally shared by all the sons after the death of their father or elder. In addition to working on their own fields, they work as farm labourers and tiller of the land. They receive wages both in cash and kind according to the nature of job or agriculture operations and in rearing cattles. They mostly work in their own or nearby villages, and there is limited mobility among them. Children and women help their manfolk in agriculture operations and in rearing cattle. Children of 14 or 15 years and above are sent out to earn wages. Previously the Megh men and women worked in the houses of the village zamidars and money landers against repayment of their own or ancestral debts. A limited type of bondage labour was prevalent in this region too. But since independence, conditions have undergone much changes and this has disappeared from this region."
"By profession the Megh are largly weavers and they profess to have learnt this craft from Kabir, the bhagat. The members of community are, therefore, sometimes addressed as Bhagat and some among them write Bhagat as caste with their names. They practised this craft as a part time work, in addition to agriculture and the older among them, when weakened by age, mostly confined their activities to weaving, but, of late, they have given up this craft as the Khadi is little in demand in the villages. Now the craft is revived and power driven handloom have replaced the older, out of date manual Khaddies. Being primarily a rural community, their economic activities are conditioned by the conditions prevailing in their respective villages."

(Reference:- "Global Encyclopedia of the North Indian Dalits- Ethnography---" Volume-1, pages- 445; 446; 448)

From which date Meghs were recruited as sepoys or warriors of any army? Fredric Drew in his treaty cited previously says- "The Maharaja has done something to improve the position of these low castes in engaging ...."
Probably rather definitely it was time of Maharaja Gulab singh of Kashmir ; who recruited Meghs in his territorial army.. Megh proved themselves Brave community. Fredric Drew mentions in his book about it; like this- "These have acquired some consideration , indeed they have behaved themselves in time of war so as to get respect , having shown themselves in courage to be equal with the higher castes, and in endurance to surpass them"
It is matter of proud to megh community that they are brave sons of soil indeed and demerit imposed upon them by caste Hindus must be replied on swap footings. Pleas think upon it construct your history of courage.
विवरण को हिंदी में इस तरह से समझे-- मेघों की सेना में भर्ती कब शुरू हुई; इस पर कोई प्रमाणिक जानकारी नहीं है क्योंकि प्राचीनकाल काल में सेना का स्वरुप ऐसा संगठित नहीं था। मुगलों ने इसे संस्थागत संगठित स्वरुप दिया। अंग्रेजो का सैन्य संगठन पूरी तरह से संगठित व संस्थानिक था। मुगलों की सेना में प्रविष्टी तभी होती थी जब वह मुसलमान धर्म को स्वीकार करले। रियासतों का सैन्य संगठन तो और भी ज्याद अव्यवस्थित था।ऐसे मे किसी जातिगत सैन्य भर्ती को खोजना अँधेरे में टटोलना है। कुछ लोगों ने जानकारी चाही थी अतः जो मेरे पास प्रमाणिक उपलब्द्ध था। उसे बताया। कश्मीर के महाराजा गुलाब सिंह ने मेघों को सेना में भर्ती करने को विशेष तव्वजो दी ताकि इस जाति का स्तर ऊपर उठ सके। फ्रेडरिक ड्रियू ने इसका जिक्र अपनी पुस्तक "जम्मू एंड कश्मीर टेरिटोरीज : ए जयोग्राफिकल एकाउंट --"में किया। उसने लिखा कि मेघ लोग बाहादुरी में किसी भी उच्च हिन्दू जाति के सैनिक से कम नहीं थे। कई अवसरों पर तो वे बहादुरी साहस और दम में उनसे भी आगे थे। इससे स्पष्ट है कि सन 1850 से पहले तक उनकी सेना में भर्ती होती रही थी क्योंकि यह समय महाराजा गुलाब सिंह का है।



To Satish Bhagat.यहाँ पर आपको सैम्युल टी वेस्टन के मेघ इतिहास के बारे में व्यक्त मत का अनुवाद पेश कर रहा हूँ। कृपया संग्रहित करें। जम्मू कश्मीर में ज्यादातर मेघ आबादी पर्वतीय क्षेत्रो में रहती है। ये वर्त्तमान में पर्वतों पर नही बसे है बल्कि जब से पहाड़ी क्षेत्रों में बस्तियां बसने लगी तभी से आबाद है। आज ये एक जाति के रूप में जाने जाते है। सैमुअल टी वेस्टन लिखते है- "पर्वतों पर रहने वाले ये लोग मूलतः कौन थे? इस बारे में अत्यल्प जानकारी भी उपलब्ध नहीं है; जो इस बारे में हमारी मदद कर सके। परम्परागत मान्यता है कि ये लोग मैदानी इलाकों से आकर यहाँ बसे है। जहाँ सब कुछ अनिश्चित है;जहाँ कोई अनुमान की जोखिम उठाता तो यह असम्भाव्य नहीं लगता है कि वर्त्तमान में जो मेघ आदि जातियां है वे लोग ही यहाँ के आदि(मूल) निवासी है।--------इनकी आबादी एक चौथाई है। जो कोली----मेघ और कुछ अन्य में परिगणित है। यद्यपि वे सामाजिक स्तरीकरण मे अलग अलग है परन्तु हिन्दुओं द्वारा उन्हें बहिस्कृत(जाति बाह्य) ही मन जाता है। इन लोगों के पास अपने मूल निवास की कोई इतिहस-परंपरा भी नहीं है। जो इस अनुमान को पुष्ट करता है कि उनकों यहाँ निवास करते हुए लम्बा काल गुजर चूका है। जनरल कन्निन्घम आश्वस्त है कि किसी समय पश्चिमी हिमालय क्षेत्र मध्य भारत में बसने वाले कोल प्रजाति के समान मानव समुहो द्वारा ही आबाद था। आज भी ये बहुतायत लोग है; जो कोल; मेघ नाम धारण करते है । ये वही लोग है।" पूर्वोक्त पृष्ट58
Megh is an ethnological group formed due to following a tradition which was in contrasts or opposite to brahmanical traditional. This struggle or contrast was in their ideologies which they used to adhered and not as racial in ancient era. Due to marriages and other reasons they mixed in spite of having separate ideals. Due to power politics castes emerged as making the sacred ness of groups. Kaul now known as Brahmans of J and k are mixture of blood.. they are not pure but they adopted to follow brahmanical tradition and secure status within with the aid of marriages Anne power which megh deprived of... they are not megh but ties were there..



Share/Bookmark

Historians tell Know your History-18

Historians tell
Know your History-18
एलेग्जेंडर से मुकाबला करने वाली कौमों में मल्ल या मल्लोई (मेघ) लोगों का जिक्र एलेग्जेंडर के इतिहासकारों ने किया है। जिसका पहले जिक्र किया जा चूका है। मेघ लोग उसी जातीय समूह से थे। यह भी बताया जा चूका है। ओस्टियाक लोगों के साथ इनका वर्णन एशिया के इतिहास में मिलता है। मेघ लोग सिन्धु तट पर रहने वाले इन्ही मल्ल लोगों में बताये गए। सिंध से उनका विस्थापन होने पर वे सिंध के ही गुजरात और राजस्थान के थल में आ गए। विभिन्न समय पर विभिन्न समूहों में आये।
वर्तमान बाड़मेर में उनका आगमन सिकंदर के समय से मिलता है। बाद में कासिम के समय फिर बड़ा आव्रिजन हुआ। उसके बाद भी होता रहा। मल्ल लोगों के आधिपत्य के कारण इस क्षेत्र का नाम मालानी पड़ा अर्थात मल्ल लोगों का क्षेत्र। बाद में सलखा के पुत्र ने अधिपत्य बनाया पर क्षेत्र का नाम वही रहा। मल्लों (मेघों) में से अलग होकर कुछ लोग राजपूत घेरे में गए। कर्नल टॉड के विचार में राठौर और चौहान राजपूत इन्ही मल्लों से निकले। मुलतान का नाम मल्ल लोगों के कारण पड़ा। मल्ल लोगों को बहुवचन में मल्ली या मल्लोई भी कहा जाता था। पिलनी के mech या mekoi मल्ल कहे गए। भाषा और बोली में वर्णों के उच्चारण में ch क में और क ज में, ज पुनः ग व घ में बदलता है। यूनानी/ अरबी / पालि /संस्कृत के लब्ज और लिखावट को समझिये।
सत्य जो भी हो, कर्नल टॉड की कृति "अनाल्स एंड एंटिक्विटी ऑफ़ राजस्थान" के तीसरे वॉल्यूम की कुछ टिप्पणियाँ नीचे दी जा रही है, जो विचारणीय है-
Barmer or Mallani- "--whole of this region was formerly inhabitated by a tribe called malli, or mallani,who, although asserted by some to be rathore in origion, are assuredly chauhan, and of the same stock as the ancient lords of Juna Chhotan.-----" page-1272 .
"Sonagir, the ' golden maintenance' is the more ancient castle, and was adopted by chauhans as distinctive of their tribe when the older term, mallani was dropped for sonigira. Here they enshrined their tutelary divinity, mallinath, 'God of mallis,' -----when the name of sonigir was exchanged for that of jalor, -----divinity of Jalandharnath was imported from Ganges or left as well as the God of the malli by the ci- devant mallanis, is uncertain. BUT prove to be remnant of foes of Alexander, driven by him from Multan.----"page- 1266.
At footnote on page- 1266, he speaks- "Multan and Juna ( chhotan...) have the same significance, the ancient abode and both were occupied by the tribe of malli or mallanis, said to be -----"
Also at page 1279 he writes- "we must describe the descendants of the Malli, foe of Alexander, or of the no less heroic Prithviraj, as a community of thieves, who used to carry their raids into Sindh, Gujarat and Jared, to arrange themselves on private property----" and so on.
Refefence: James Tod, Annals and Antiquities of Rajasthan or the central and western Rajput states of India," Volume-3, book- 1, Oxford university press, London, 1920.
Know your history-19
यहाँ नीचे Alexander Cunningham द्वारा मेघो के इतिहास के बारे में और उनकी ethnology के बारे में
"Archaeological Survey of India: four reports during the years 1862-63-64-65, volume-2
के पेज संख्या 11 से 13 का विवरण ज्यों का त्यों दे रहा हूँ। यह रिपोर्ट गवर्नमेंट सेंट्रल प्रेस, शिमला से 1871 में प्रकाशित हुई थी।
Sir Alexander Cunningham (23 January 1814 – 28 November 1893)
Megs.
"Connected with the Takkas by a similar inferiority of social position is the tribe of Megs, who form a large part of the population of Riyasi, Jammu, and Aknur. According to the annals of the Jammu Rajas, the ancestors of Gulab Singh were two Rajput brothers, who, after the defeat of Prithi Raj, settled on the bank of the Tohi or Tohvi River amongst the poor race of cultivators called Megs. Mr. Gardner calls them "a poor race of low caste," but more numerous than the Takkas.t In another place he ranges them amongst the lowest class of outcasts ; but this is quite contrary to my information, and is besides inconsistent with his own description of them as "cultivators." They are but little inferior, if not equal, to Takkas. I have failed in tracing their name in the middle ages, but I believe that we safely identify them with the Mekei of Aryan, who inhabited the banks of the River Saranges near its confluence with the Hydraotes.J This river has not yet been identified with certainty, but as it is mentioned immediately after the Hyphasis or Bias, it should be the same as the Satlaj. In Sauskrit the Satlaj is called Satadru, or the " hundred channeled," a name which is fairly represented by Ptolemy's Zaradrus, and also by Pliny's Hesidrus, as the Sanskrit Sata becomes Hata in many of the W. Dialects. In its upper course the commonest name is Satrudr or Satudr, a spoken form of Satudra, which is only a corruption of the Sanskrit Satadru. By many Brahmans, how ever, Satudra is considered to be the proper name, although from the meaning which they give to it of "hundred- bellied," the correct form would be Satodra. Now Arrian's Saranges is evidently connected with these various readings, as Satdnga means the '* hundred divisions," or " hundred parts," in allusion to the numerous channels which the Satlaj takes just as it leaves the hills. According to this identification the Mekei, or ancient Megs, must have inhabited the banks of the Satlaj at the time of Alexander's invasion. In confirmation of this position, I can cite the name of Megarsus, which Dionysius Periegetes gives to the Satlaj, along with the epithets of great and rapid.* This name is changed to Cymander by Aoienus, but as Priscian preserves it unaltered, it seems probable that we ought to read Mycander, which would assimilate it with the original name of Dionysius. But whatever may be the true reading of Avienus, it is most probable that we have the name of the Meg tribe preserved in the Megarsus River of Dionysius. On comparing the two names together, I think it possible that the original reading may have been Megandros, which would be equivalent to the Sanskrit Megadru, or river of the Megs. Now in this very part of the Satlaj, where the river leaves the hills, we find the important town of Makhowdl, the town of the Makh or Magh tribe, an inferior class of cultivators, who claim descent from Raja Mukh- tesar, a Sarsuti Brahman and King of Mecca ! " From him sprang Sahariya, who with his son Sal was turned out of Arabia, and migrated to the Island of Pundri; eventually they reached Mahmudsar, in Barara, to the west of Bhatinda, where they colonised seventeen villages. Thence they were driven forth, and, after sundry migrations, are now settled in the districts of Patiala, Shahabad, Thanesar, Ambala, Mustafabad, Sadhaora, and Muzafarnagar."* From this account we learn that the earliest location of the Maghs was to the westward of Bhatinda, that is, on the banks of the Satlaj. At what period they were driven from this locality they know not ; but if, as seems highly probable, the Magiaus whom Timur encountered on the banks of the Jumna and Ganges were only Maghs, their ejectment from the banks of the Satlaj must have occurred at a comparatively early period. The Megs of the Chenab have a tradition that they were driven from the plains by the early Muhammadans, a statement which we may refer either to the first inroads of Mahmud, in the beginning of the eleventh century, or to the final occupation of Lahor by his immediate successors. 3. Other
* Orljis DcsLTi1itio, V. 1145.
• Smith's Rcv1ning Family of Lahor, p. 232, and Appendix p. xxix. In the text he m.'iti* the " Tukkers" Hindus, but in the Appendix he calls the " Tuk" a " brahman caste." The two names are, however, most probably not the same. t Ibid, pp. 232, 201, and Appendix p. Xxix."
जनरल कनिंघम के अंग्रेजी विवरण का श्री भारत भूषण भगत जी द्वारा किया गया मुक्तहस्त हिंदी अनुवाद...
....
कहते हैं कि इतिहास, इतिहासकार और कथाकार हमेशा रहते हैं. इस बीच राजस्थान से मेघवंश के इतिहासकार श्री ताराराम ने "मेघवंश : इतिहास और संस्कृति" नामक पुस्तक लिखी जो मेरी दृष्टि से मेघों का एक प्रामाणिक इतिहास प्रस्तुत करती है. उनसे एक दिन फोन पर बात करते हुए मैंने पूछा कि क्या जम्मू के पास झेलम, सतलुज के बीच के क्षेत्र में मेघों का सिकंदर से कोई सामना नहीं हुआ? उन्होंने कहा कि सर एलैग्ज़ांडर कन्निंघम ने ऐसे संकेत दिए हैं. मैंने बहुत कोशिश की लेकिन मुझे कन्निंघम की पुस्तक नहीं मिली. कर्नल तिलक राज (Col. Tilak Raj) और श्री आर.एल. गोत्रा (R.L. Gottra) जी से भी बात हुई. इतना मालूम पड़ा कि लॉर्ड कन्निंघम की पुस्तक में मेघों का उल्लेख है.
कुछ दिन पूर्व ताराराम जी ने कन्निंघम की पुस्तक का वह अंश फेसबुक पर शेयर किया और मुझे भी अग्रेषित कर दिया. एक लिंक भी भेजा. पहली बार मुझे वे अंश पढ़ने को मिले और मैं अपनी खुशी को रोक नहीं पाया. सबसे पहले मैंने उसे www.meghnet.com पर बनाए पृष्ठ Historians Tell-2 पर शामिल किया और अलग से एक ब्लॉग लिखने की तैयारी शुरू कर दी. मेरी कल्पना के घोड़े बहुत जंगली हैं और जब वे हिनहिनाते हैं तो मैं दौड़ने लगता हूँ. घोड़ों पर मेरा वश नहीं लेकिन दौड़ने पर है.
कन्निंघम ने जो लिखा है वह ज़रा पुरानी अंग्रेज़ी में लिखा है और उस विद्वान ने ग्रीक और अन्य भाषाओं के ऐसे कई शब्द भी प्रयोग किए हैं जिन्हें सही प्रतिनिधि ध्वनि के साथ देवनागरी में लिखना मेरे लिए कठिन था इसलिए उनके आगे (कोष्ठकों में) उनकी अंग्रेज़ी वर्तनी (spellings) दे दी है. कन्निंघम ने क्या कहा है उसका लगभग एक स्वतंत्र अनुवाद नीचे दिया है.
"मेघ
सामाजिक स्थिति में समान कमतरी ( similar inferiority) वाले टकों (Takkas) से जुड़ा एक कबीला मेघों का है जो रियासी, जम्मू और अख़नूर की जनसंख्या का बड़ा हिस्सा है. जम्मू के राजाओं के अभिलेखों और रिकार्ड (annals) के अनुसार गुलाब सिंह के पूर्वज दो राजपूत भाई थे जो पृथ्वीराज की पराजय के बाद टोही या टोहवी नदी (Tohi or Tohvi river) के किनारे मेघ कहलाने वाले गरीब काश्तकार (cultivators) वंश में बस गए. मिस्टर गार्डनर ने उन्हें निम्न जाति का निर्धन वंश कहा है, लेकिन वे टकों के मुकाबले संख्या में अधिक हैं. एक अन्य जगह वे उन्हें बहिष्कृतों की निम्नतम जमात में रखते हैं; लेकिन यह मेरी सूचना के विपरीत है, इसके अलावा यह उसके उस वर्णन से भी मेल नहीं खाता जिसमें उसने उन्हें "काश्तकार" कहा है. यदि वे टकों के समान नहीं हैं तो उनसे बहुत कमतर (inferior) भी नहीं हैं. मैं उनका मध्ययुगीन नाम ढूँढने में असफल रहा हूँ, लेकिन मुझे यकीन है कि हम विश्वसनीय रूप से उन्हें आर्यों के मेकी (Mekei) के तौर पर पहचान सकते हैं, जो सारंगीज़ (Saranges) नदी के किनारे उसके हाइड्राओटीज़ (Hydraotes) के संगम के पास रहते थे. इस नदी की अभी पक्की पहचान नहीं हुई है, लेकिन क्योंकि इसका उल्लेख हाइफेसिस (Hyphasis) या ब्यास के तुरत बाद में हुआ है, इसे सतलुज होना चाहिए. संस्कृत में सतलुज को शतद्रु (Satadru), या "शतधारा)" (hundred channeled) वाली, कहा गया है. यह ऐसा नाम है जो टोलेमी के ज़राड्रस (Ptolemy's Zaradrus) और प्लिनी के हेज़ीड्रस (Pliny's Hesidrus) को ठीक-ठाक तरीके से दर्शाता है क्योंकि संस्कृत का 'शत' कई पश्चिमी बोलियों में 'हत' बन जाता है. इसके ऊपरी मार्ग में इसका नाम शत्रुद्र या शतुद्र (Satrudr or Satudr) है जो संस्कृत के 'शतद्रु' का ही बिगड़ा हुआ और सामान्यतः बोला जाने वाला रूप है. तथापि कई ब्राह्मण शतुद्र को सही मानते हैं यद्यपि वे इसे "सौ उदर" (पेट) (hundred-bellied) वाले अर्थ से जानते हैं, तब इसका नाम 'शतोदर' होना चाहिए था. अब एर्रियन का सारंगीज़ (Arrian's Saranges) प्रत्यक्षतः इन विभिन्न शब्दों के साथ जुड़ा है जैसे शतांग (hundred divisions), शतांग (hundred parts) जिसका अर्थ है सौ विभाजन या सौ अंग, जो सतलुज के पर्वतीय क्षेत्र छोड़ने के बाद कई धाराओं में बँटने का संकेत देता है. इस पहचान के अनुसार मेकी, या प्राचीन मेघ, सिकंदर के आक्रमण के समय ज़रूर सतलुज के किनारों पर बस चुके थे. इस स्थिति की पुष्टि में, मैं मेगारसस (Megarsus) का नाम ले सकता हूँ एक नाम जो डियोनाइसिअस पेरीगिटीज़ (Dionysius Periegetes) ने सतलुज को महान और तीव्र के विशेषणों के साथ दिया था.* ऑइनस (Aoienus) ने नाम को बदल कर सिमेंडर (Cymander) कर दिया, लेकिन क्योंकि प्रिसियन (Priscian) ने बिना बदलाव के इसे सुरक्षित रखा, इससे लगता है कि हमें माइकेंडर (Mycander) को पढ़ना चाहिए, जिसने इसे मूल नाम डियोनाइसियस (Dionysius) के साथ समावेशित किया. अवीनस (Avienus) ने जो भी लिखा हो, इसकी संभावना सबसे अधिक है कि हमारे पास मेघ कबीले का नाम डियोनाइसियस (Dionysius) के मेगारसस (Megarsus) नदी में सुरक्षित है. दोनों नामों की आपस में तुलना करने पर, मेरे अनुसार संभव है कि मूल शब्द मेगान्ड्रोस (Megandros) हो जो संस्कृत के शब्द मेगाद्रु, या मेघों का दरिया, के समतुल्य होगा. अब सतलुज के इसी भाग में, जहाँ यह दरिया पर्वतों से बाहर आता है, हम मखोवाल (Makhowal) शहर पाते हैं, मख या मेघ कबीले (Makh or Magh tribe) का शहर, कमतर स्थिति वाले किसानों की जमात, जो खुद को राजा मुख-तेसर (Mukh-tesar), एक सरसुती ब्राह्मण और मक्का का राजा (Sarsuti Brahman and King of Mecca), का परवर्ती मानते हैं. उसी से सहारिया (Sahariya) निकला, जिसे अपने बेटे साल (Sal) के साथ अरब (Arabia) से निकाल दिया गया था और वह पुंड्री द्वीप (Island of Pundri) में आ गए थे; अंततः वे बरारा, जो भठिंडा के पश्चिम में है, में महमूदसर में आए और वहाँ सत्रह गाँव बसा लिए. उसके बाद वे और आगे आए और छुटपुट आव्रजन (immigraion) के बाद अब वे पटियाला, शाहबाद, थानेसर, मुस्तफाबाद, सधौरा और मुज़फ़्फ़रनगर में बस गए हैं.* इस वर्णन से हमें ज्ञात होता है कि मेघों की पूर्वतम स्थिति बठिंडा के पश्चिम की ओर, अर्थात सतलुज के किनारे पर थी. किस काल में वे इस स्थान से गए वे नहीं जानते; लेकिन यदि, जैसा कि बहुत संभव लगता है, मगियास (Magiaus) जिनका यमुना और गंगा के किनारे तैमूर (Timur) से सामना हुआ वे मघ ही थे, सतलुज के किनारों से उनका जाना तुलनात्मक रूप से उससे पूर्व ही हुआ होगा. चिनाब के मेघों की परंपरा के अनुसार उन्हें पहले पहल आए मुहम्मदनों (Muhammadans) ने मैदानी इलाकों से खदेड़ा था, एक ऐसा बयान जिसका संदर्भ हम ग्यारहवीं शताब्दी के शुरू में महमूद के अतिक्रमण से या उसके क़रीबी उत्तराधिकारियों के लाहौर पर अंतिम कब्ज़े से ले सकते हैं.
(मूल पाठ में कन्निंघम ने निम्नलिखित से संदर्भ दिए हैं)
* Orljis DcsLTi1itio, V. 1145.
• Smith's Rcv1ning Family of Lahor, p. 232, and Appendix p. xxix. In the text he m.'iti* the " Tukkers" Hindus, but in the Appendix he calls the " Tuk" a " brahman caste." The two names are, however, most probably not the same. t Ibid, pp. 232, 201, and Appendix p. Xxix."


Share/Bookmark

History of Meghs

प्राचीन काल में कई भौगोलिक क्षेत्रों के नाम वहां निवास करने वाले जातीय समूहों या लोगों के नाम से प्रचलित हुए, इसमें वर्त्तमान राजस्थान के कई भू भाग है, जो वहां निवास करने वाले लोगों के नाम से जाने जाते है। इनमे "मारवाड़" नाम से विख्यात भू भाग भी एक है।
" मारवाड़ " का नाम यहाँ निवास करने वाले म्हार लोगों के कारण ही पड़ा। म्हारों के कारण म्हार वाड, मारवाड़ आदि नाम प्रचलन में आया। यहाँ राजपूतों के आधिपत्य से पूर्व यह भू भाग म्हारों का निवास स्थान था और नाग जातीय लोगों से निवासित था। मल्ल, मालव, म्हार, मेघ एक ही जातीय समूह से माने गए है।
म्हार, मेर, मेव, मल्ल, आदि जन समूहों से मारवाड़, मेर वाड, मेवाड़/मेवात, मल्लानी आदि राजस्थान के प्राचीन भू खण्डों के नाम है।
विगत कुछ शताब्दियों से मारवाड़ का अर्थ country of death कह कर प्रचलित किया गया, जो पूर्णतः गलत है। कुछ लोगों ने मरू भूमि और मरुस्थल नाम भी दिए परन्तु म्हार शब्द इतना दृढ हो गया कि कुछ भी नया नाम देने पर भी लोग इसे मारवाड़ ही पुकारते है।
अगर मार और वाड शब्द से उत्पति माने तो भी " संस्कृत " में " मार " शब्द नहीं मिलता है। "मार" शब्द पालि का तकनिकी शब्द है। जिसका निश्चित अर्थ पालि में है। इसप्रकार से यह भू भाग प्राचीन कल में बौद्ध धर्म की शरण स्थली रहा है, यह प्रमाणित होता है। राजपूतों की सत्ता हो जाने के बाद भी वे मारवाड़ शब्द से पीछा नहीं छुड़ा सके।
और भी कई तथ्य है। यहाँ R G Latham की पुस्तक की मारवाड़ शब्द पर की गयी टिप्पणी दी जा रही है-
"Marwar: From-----like all countries--------. It is Marwar, marusthan, or marudesh- not the country of death ( as has been argued ), but the country of mhars(mairs)" page- 386-387, Descriptive Ethnology, volume-2, edition-1859, London.
"मारवाड़ शब्द मारूवार का अपभ्रंष है। यथार्थ में इसका नाम मरुस्थल या मरुदेश है, जिसका अर्थ होता है मरे हुए लोगों का देश।-------- इतिहासवेत्ताओं ने नासमझी से मा'र देश लिखा है।"
उक्त पंक्ति "जोधपुर राज्य का इतिहास" पुस्तक की है। इसमे यह भी लिखा है कि मुसल्मानो ने इसका गलत नाम "मार देश" लिखा है।
यह अंग्रेंजो के पहले भी मार वाड ही कहा जाता था। काठियावाड़ - मार वाड उस समय प्रशिद्ध भू भाग थे और ये नाम वहां रहने वाले लोगों के कारन ही पड़े। मोहिले, मेर, मेघ और भील आदि लोग ही यहाँ रहते थे। जिनसे प्राय नवोदित राजपूतों से संघर्ष हुए। कई पुरानी जातियों ने नए नाम अख्तियार कर लिए। कई प्रवासी हो हो गए। कइयों ने धर्म बदल लिया।
परन्तु यह स्पष्ट है कि राजपूतों से पहले यहाँ बौद्ध धर्म ही लोक धर्म था। जिसे ख़त्म करने के लिए ब्राह्मणवादी लोगों ने राजपूत नाम के सामाजिक और राजनितिक घटक को जन्म दिया। इसका संकेत कई जगह है। यहाँ मारवाड़ मर्दुम शुमारी-1891, से इसका संकेत दिया जा रहा है-
"पंवार,चौहान, सोलंखी, अग्निवंशी है-------इन अग्नि वंशी राजपूतों के बारे में ऐसा कहा जाता है कि इनको बौद्ध मत वालों के मारने के लिए वशिष्ठ वगेरह ऋषियों ने आबू पहाड़ के ऊपर होम करके अग्नि कुंद से पैदा किया था।" पृष्ठ-3,
और भी कई प्रमाण है जो इस भू भाग को बुद्ध से जोड़ता है। कुछ जातकों में तो बुद्ध को भी यहाँ विचरण करता हुआ वर्णित किया है।
मारवाड़ तो बहुत छोटा भूभाग है, एसिया के रेगिस्तान का। ज्यादातर हिस्सा पाकिस्तान में। जैसलमेर भी रेगिस्तान पर उसे माड देश कहते थे। बीकानेर भी रेगिस्तान पर उसे जांगल देश कहते। बाड़मेर रेगितन पर उसे मल्लानी कहते। रेगिस्तान के एक विशेष क्षेत्र को ही मारवाड़ कहते है। जयपुर ढूंढाड कहलाता। ये सभी मरुभूमि , पर सबको मारवाड़ नहीं कहते। अजमेर को मेरवाडा आदि आदि।
अंग्रेजो से पहले की लिखी जियोग्राफी, इतिहास, एथ्नोग्रफी और भाषा विज्ञानं को थोडा देख लीजिये। ज्ञान में वृद्धि ही होगी। सायन, पाणिनी और मारवाड़ में प्रचलित कातंत्र व्याकरण और कच्चायन व्याकरण भी देख लीजिय, फिर बात करते है। सिंध और गुजरात का पुराना इतिहास जरुर देखे क्योंकि प्राचीन कल में यह भू भाग राजनैतिक रूप से उनका भी भाग रहा है।
आप प्राचीन इतिहास को कैसे नकारेंगे?
राजस्थान में सबसे प्राचीन जो शिला लेख मिले है। वह ब्राह्मी लिपि और पालि भाषा मे ही क्यों है?
राजस्थान मुजियम अजमेर में रखे नगरी के लेख को देखे- उसमे मलव गण का स्पष्ट उलेख-" कृतेसु-----मलावपुर्व्वाया"
कोटा के कणास्वा में मिले लेख में"---- सप्त्भिर्म्मालवेशानाम"
जयपुर के पास मिले सिक्कों में मालवां,मालवानाम, मगय आदि लेख मिलते है। ये सब मल्ल किंवा मालव लोगों के अस्तित्व को ही सिद्ध करते है। जिनका राजपूतो से पहले यहाँ राज्य था।
जोधपुर और अजमेर के पास मिले सबसे पुराने शिलालेख भी ब्रहमी लिपि और पालि में है तो ऐसे में उस समय के शब्दों का अर्थ भी पालि से ही ग्रहण करना पड़ेगा।
राजपूतों की वंश परंपरा सदैव दायें बायें डांवाडोल होती रही है। उनके वंश और गोत्र बदलते रहे है। कोई युक्तियुक्त तारतम्य नहीं है। असम्बन्ध कड़ियों को जोड़कर एक इतिवृत बना दिया। जोधपुर राज्य का इतिहास में बलदेव मिश्र और ज्वाला प्रसाद मिश्र लिखते है-
"राजपूत समाज का यह एक सदैव से ही नियम है कि राजधानी बदलने के साथ ही राजपूत राजाओं की शासन विधि और कौलिक उपाधि (कुल की उपाधि) का प्राय परिवर्तन होता रहता है। मारवाड़ के इतिहास में इस नियम का कोई दोष नहीं देखा जाता।"
इससे कई चीजे साफ है। कोई भ्रम नहीं रा जाता।

Depressed Classes in Mewar in 1931-1941.
मेवाड़ की जनसंख्या में भी मेघवाल जाति का नाम शुमार रहा है। मेवाड़ की 1931 व 1941 की जनगणना में भी यह जातिगत नाम रहा है। कहने का तात्पर्य यह है कि मेघवाल जाति का मेघवाल नामकरण भेरूलाल जी ने नहीं किया। सं 1864 से 1872 की ASI रिपोर्टस में भी मेघ जाति का उल्लेख है। 1936 से पहले कुछ Ph.Ds भी इस जाति पर हो चुकी थी।
मेवाड़ में 1931 व 1941में हुई Census में मेवाड़ में निम्न जातियों को depressed classes लिखा गया है:👇🏽
Bagariya, Balai, Bhambhi, Bhangi, Chamar, Gancha, Kalbelia, Khateek, Koli, Sargara, Nut, Rawal, Ahedi, Dhanak, Dhed, Garuda, Kuchband, Kamaria, #Meghwal, Regar, Sansi, Sarbhangi, Thori, Tirghar, Kanjar, Dabgar---
मेवाड़ की इन दलित जातियों में मेघवाल नाम पहले से ही है, अतः यह कहना कि भेरूलाल जी ने मेघवाल नाम दिया -, तथ्यहीन और असत्य है।
यह हो सकता है कि कुछ लोगों ने इस नाम को अपनाया हो।
See : summary of census of mewar-1941,vol.4, page 179

Know your history- जैसा मैंने पहले स्पष्ट किया, उन तथ्यों को ध्यान में रखते हुए Robert Gordon Latham द्वारा उनकी पुस्तक "Descriptive Ethnology", volume-1, की कुछ टिप्पणियों को सन्दर्भ हेतु यहाँ दे रहा हूँ। नोट करले। 
उक्त पुस्तक में मेघों का वर्णन Ostiak ट्राइब के प्रसंग में किया है। कदाचित मेघ ट्राइब को इस जातीय समूह में माना हो। जो बाद में हंगरी में जा बसे। Ostiak लोगों के पड़ोस की जातियों में मेघों का वर्णन है। Latham,R.G. writes- " MEGH is a political division. But besides the political division, there is religious one. The use of the same consecrated spot, or the same priest, is also a band of union; that the two divisions thus formed by no means necessarily coincide." Page-456,
स्पष्टः उसने मेघों को उसने प्राचीन समय से ही एक राजनितिक विभाग ज्ञेय किया। मेघों और Ostiak लोगों के आपसी संबंधों पर भी इसमे वर्णन है।
मेघों के धर्म के बारे में वह लिखता है :
"The priest is a 'Shaman', i.e. priest, sacrificant, sorcerer, prophet, and medicine-man at one, capable of working himself into real or mock frenzies, fond of the sound of the drum" page-456,
मेघों का धर्म "शमन" बताया गया है। उस समय उस प्रदेश में बौद्धों को समन या समनीय कहा जाता था। समन या शमन शब्द 'श्रमण' शब्द से निकला है, जो बौध्ध भिक्षु यानि बुद्ध अनुयायी के लिए उस क्षेत्र में प्रयुक्त होता था। अरब- अफ़ग़ानिस्तान के इतिहास और सिंध के इतिहास में भी एसा ही है।
Klaproth को उद्धृत करते हुए वह वहां के मेघों के कुछ विशिष्ठ नामों या समूहों का जिक्र करता है :
The names of the following tribes, or Megh, are from Klaproth:
1.Luhung MEGH, 2.Waghu MEGH, 3.Tormiogn MEGH, 4.Pyhm MEGH, 5.Agon MEGH, 6.Endl agon MEGH, 7.Ay Agon MEGH, 8.Lokatsh MEGH, 9.Palakh MEGH, 10.Salam MEGH, 11.Tahsen MEGH.
इनके इन विभिन्न नामकरण के बारे में भी उसमे उल्लेख है। वह आगे लिखता है:
"Members of the same tribe, whether large or small consider themselves as relations, even where the common ancestor is unknown, and where the evidence of consanguinity is wholly wanting . Nevertheless , the feeling of consanguity. Sometimes real,sometimes conventional, is the fundamental principle of the union. The rich, of which there are few, help the poor, who are many. There is much that can change hands" page-455
मेघो के आपसी सद्भाव और सौहाद्रिय पर यह टिपण्णी अभी तक चरितार्थ होती है।
वह उनके सामाजिक रीती रिवाजों और सरोकारों पर भी टिपण्णी करता है। देखें:
" The practice of interring the weapons and accoutrements of the deceased alongwith the corpse, common in so many rude Countries, is common amongst Ostiak.......... plurity of wives the country is too poor, Brothers marry the widows of brothers. Two brothers, however, may not marry two sisters." Page-457
Reference: R.G. Latham- Descriptive Ethnology, volume-1, Eastern and Northern Asia-Europe, London


Share/Bookmark

Know your history- Pir Pithora

संभवतः तेरहवीं शताब्दी में मेघों में एक प्रसिद्द सिद्ध पुरुष हुए। जिन्हें पीर- पैगम्बर की श्रेणी में रखा जाता है। उनका जन्म सिंध पाकिस्तान में हुआ था। लोक में उन्हें पीर पिथौरा के नाम से जाना जाता है। ये बड़े करामाती थे और जैसा बाबा रामदेव को यहाँ गौरव प्राप्त है ठीक इसी प्रकार का उन्हें सिंध में गौरव हासिलहै।
इनकी माताजी का नाम सोनल बाई और पिताजी का नाम श्री मदनजी था। इनके गुरु का नाम वीर नाथ था। सूफी संत हजरत गॉस बहवालुद्दीन जकारिया के ये समकालीन थे।
पीर पिथोरा मुल्तान के थे। मुल्तान का नाम मल्ली(मेघ) लोगों के कारण ही पड़ा था। वहां मेघों की सघन बस्तियां थी और उनके अपने स्वतंत्र गण थे। कर्नल ब्रिग्ग्स आदि ने पीर पिथोरा पर यत्र तत्र टिप्पणियां की है।
वहां की परम्परा उन्हें मेघ ही मानती है। जो की सत्य है।
इधर कुछ वर्षों से पीर पिथोरा का राजपूतिकरण किया जाने लगा है। जो निंदनीय तो है ही साथ ही इतिहास के साथ खिलवाड़ भी है। कुछ पंवार खांप के व कुछ सोढ़ा खांप के राजपूत उन्हें राजपूत बनाने में लगे है। beware of such idiotic thoughts.
यह बात अलग है की मेघवालो के अलावा पीर पिथोरा को मुस्लमान और सोढा राजपूत आदि भी पूजते है।
Gazetteer of sindh province में उनके बारे में लिखा है- "one fair of noteworthy only is held yearly in the Nara district, at the town of pithora, near Akri, in the month of September. It is in honour of one Pithora, a spiritual guide among the mengwar community, and is attended by about 9000 people, principally of that tribe. There are seven other small fairs held in various parts of Thar and Parkar district, but not are sufficient consequence to requir note" pages- 856-857.


Share/Bookmark

नाथपंथ और मेघ-

नाथपंथ और मेघ-
गोरखनाथने नाथपंथ चलाया,यह सभी जानते है; परतु यह बहुत कम लोग जानते है कि इन नाथमत में बहुत से मेघ थे। जो नाथों से पूर्व चली आ रही सिद्ध परंपरा से जुड़े हुए थे। वे बाद में या तो नाथमत में मिल गए या विलीन हो गए। इस सम्बंध में गुजरात के कच्छ की धनोधर पीठ भी है, जिसका पीर कभी मेघवाल होता था। अब वो नहीं है। धनोधर धुनी नाथ मत में मिल गयी। वहां का मुख्य महंत या पुजारी पीर कहलाता था और उसके मातहत धूणियो के गादीपित आयस कहे जाते थे।
जोधपुर के महामंदिर की गादी भी धनोधर के अधीन थी। धनोधर में जब वारनाथ गादी पर बैठा तो मेघवाल को पंथ से बाहर कर दिया। इसके सामाजिक, राजनैतिक कारणों के साथ धार्मिक कारण भी थे। यह धूणी धर्म नाथ ने थापी थी।
धर्मनाथ मछन्द्रनाथ के चेले थे। गोरखनाथ भी मछन्द्रनाथ के चेले थे। मछन्द्र और जालंधर को गुरु भाई भी कहा जाता है। मछन्द्र और जालंधर बौद्धों के चौरासी सिद्धों में माने जाते है।
See ref- "Gorakhnath and the kanphata yogi" (1838)
पृ 26पर इस सदर्भ में में लिखा है- "formerly in kucch Dheds were admitted to the order, and one pir of the monastery was Megh nath , of that caste. However the practice was discontinued and Meghvals, or Dheds, were denied admittance." Reference as cited above, Further, Indian antiquary, 1878 at page 10, same facts are affirmed. It writes as under: "Formerly Meghvals, or Dheds were admitted, and one of their pir Meghnath was of this caste. The yogis of Dhinodhar are, therefore, regarded as very low, though the practice of adopting Meghwals is long since discontinued."
See also Reference -I A, 1878, page-10. कच्छ में कई जगह मेघवालों के भव्य मंदिर और मठ थे। 


Share/Bookmark

Megh Historians tell ध्यान से पढ़ें !

Megh
Historians tell
ध्यान से पढ़ें
23. S.N. Roy and Meghas dynasty
प्रसिद्ध इतिहासकार व पुरातत्ववेत्ता प्रोफ़ेसर एस. एन. रॉय मेघ कालीन अभिलेखों के विश्लेषण में इस राजवंश के बारे में लिखते हैं-
"Explaining the position comparatively in a greater detail, Sastri points out that dynastic text as reconstructed by Pargiter avers in the usual prophetic vein that there would flourish nine wise and powerful kings well known as Maghas, that according to Pargiter, the dynasties mentioned here of which Megha is one, flourished in the third century A. D., that on account of the similarity of this dynnastic designation with the word Magha found suffixed to the names of some of the members of what is popularly known as the Magha dynasty, the Meghas of the Puranas have by common consent been identified with the Maghas, that since the manuscripts of the Puranas give variant readings of the dynastic appellation, it is possible that the origional reading was Magha and the substitution of medial "e" for "a" is due to copyists, that according to the Puranas, the Meghas (or Maghas) ruled in Kosala, that in view of its association with some areas of Deccan like Mekala and Nishadha and Nala Dynasty Kosala in present context, appears to refer to south Kosala which comprised the Chhattisgarh region of Madhya Pradesh and Sambhalpur district of Orissa; that the find spot of the records of the Maghas, on the other hand in between Bandhogarh in the south to Fatehpur in the north with Kausambi approximately occupying the central position; which judging from the province of inscription, formed the southernmost part of Magha kingdom is situated at a distance of a few hundred kilometers from the northernmost portion of Chhattisgarh region, that this discripancy must be explained away if the Maghas of the inscriptions, coins and seals are taken as identical to the Meghas of the Puranas." Pages; 36-37
Reference: S N Roy, "Magha Inscriptions in the Allahabad Museum", Allahabad, 1999.
22. Megha coins- Shastri, Mitra
Shastri, Ajay Mitra, Kausambhi Hoard of Megha Coins, P.19
Maghas and Meghas:
"The Dynastic text of the Puranas as reconstructed by Pargiter avers in the usual prophetic vein that there would flourish in Kasala nine wise and powerful kings well-known as Megha1. According to Pargiter, the dynasties mentioned here, of which Megha is one, flourished in the third century A.D.2. On account of the similarity of this dynastic designation with the word megha found suffixed to the names of some of the members of what is popularly known as the Magha dynasty the Meghas of the Puranas have by common consent been identified with the Meghas3. Since the manuscripts of the Puranas give variant readings of the dynastic appellation4, it is possible that the original reading was Magha and that the substitution of the medial e for a is due to the copyists. Now, according to the Puranas, the Meghas (or Maghas) ruled in Kosala. In view of its mention in association with some areas of the Deccan like Mekala and Nishadha and the Nala dynasty Kosala, in the present context, appears to refer to South Kosala which comprised the Chhattisgarh region of Madhya Pradesh and the Sambalpur District of Orissa. The find-spots of the records of the Maghas, on the other hand, lie between Bandhogarh in the south to Fatehpur in the north with Kausambi occupying an approximately central position. Bandhogarh, which, judging from the provenance of inscriptions5, formed the southernmost point of the Magha kingdom, is situated at a distance of a few hundred kilometers from the northernmost portions of the Chhattisgarh region. This discrepancy must be explained away if the Maghas of inscriptions, coins and seals are to be taken as identical with the Meghas of Puranas. Three alternative explanations may be suggested. First, possibly the dominions of some of the Magha chiefs extended as far south as Dakshina Kosala6 or touched upon its borders though, it must be admitted, no record of the dynasty has been reported from anywhere within or close to this area. Secondly, northern borders of Dakshina Kosala may, at one time, have extended much further than the Chhattisgarh area so as to touch upon or cover the Bandhogarh region7. And lastly, it is possible that the Puranas have erroneously referred to Kasala instead of Vatsa or some other geographical name as the dominion of the Meghas. Such errors are not very rare in the Puranas. And if none of these alternatives is found acceptable, the Meghas of the Puranas will have to be treated as different from the Maghas of our archaeological records and a search for the archaeological records of the Meghas will have to be instituted."
R E F E R E N C E S
1. Kosalayam tu rajano bhavishyanti mahabalah, Megha iti samakhyata buddhimanto nav-aiva tu.
Medya and Medhatithi are given as variants in place of Megha and Megha iti respectively. F. E. Pargiter, The Purana Text of the Dynasties of the Kali Age, p.51
2. Ibid., pp. 50, 73
3. This view is, however, not accepted by some scholars. See Jagannath Agrawala in Comprehensive History of India, II, p.259, note
4. Medya and Medhatithi are mentioned by Pargiter as variants in place of Megha and Megha iti respectively. See The Purana Text of Dynasties of the Kali Age, p.51, note 21.
5. According to K.D. Bajpai, some Magha coins also have been found at Bandhogarh.
6. Altekar thinks it possible that in the heyday of their glory, the Magha kings ruled over wide territories extending from Bilaspur in the south to Fatehpur in the north, vide JGJRI, I, P.159.
7. Limits of provinces are known to have changed with political vicissitudes. To cite an example, Dakshina Kosala once appears to have included a part of Vidarbha. The senkapat inscription of the time of the Panduvamsi king Maha-Sivagupta Balarjuna of South Kosala shows that the dominions of his predecessor Nannaraja reached as far as the banks of the river Varada, mod. Wardha, a tributary of the Godavari. See EI, XXXI, pp.35-36.
21. Col. Evam (1857 विद्रोह)
1857 का विद्रोह और थार पारकर के अछूतों का योगदान:
सन 1862 में यहाँ पर नगर पालिका का गठन हुआ। इस कसबे में वस्त्रों की कताई-बुनाई का व्यवसाय कभी प्रसिद्धि पर था। जिसमें वहां के मेंगवार परिवार कई पीढ़ियों से इस हुनर के सिद्धहस्त कारीगर बहुतायत से इस आजीविका में संलग्न थे। जब सन 1862 में नगर पालिका का गठन हुआ तब इस कसबे की जनसंख्या लगभग 2355 आंकी गयी थी जिनमें 539 मुसलमान और 1816 हिन्दू थे। हिन्दुओं में सर्वाधिक मेंगवार, कोली, लोहान और ब्राह्मण थे।
कपास पर अत्यधिक टेक्स, बुनाई पर टेक्स, व्यापर पर चुंगी का अत्यधिक भार, खेती-बाड़ी पर टेक्स आदि ने जनता में असंतोष को बढ़ा दिया था। अतः जब देश के अन्य भागों में 1857 का विद्रोह हुआ तो यहाँ भी चिन्गारी लग गयी और मेंगावारों सहित यहाँ की प्रजा राणा के पास गयी। राणा उस समय अंग्रेजों का कारिन्दा ही था परन्तु उसने प्रजा का साथ देने का निश्चय किया और राज के विरुद्ध खुले रूप में विद्रोह का सूत्रपात हो गया। जिसमें वहां के मेंगवारों ने बढ़-चढ़ कर इस विद्रोह में हिस्सा लिया। पहली बात तो यह थी कि उनका कताई-बुनाई के पर अत्यधिक टेक्स भार होने से जीना दूभर था, दूसरा कृषि आधारित उनके जीवन पर भी दोहरी मार पड़ रही थी। उनकी आबादी भी ज्यादा थी।
इस विद्रोह में वे बुरी तरह से दब गए। अंग्रेजों ने इस विद्रोह को दबाने हेतु मई 1859 में कर्नल इवाम के नेतृत्व में नगर पारकर सैन्य टुकड़ी भेजी। जिसका मुकाबला वहां की प्रजा ने बड़ी बहादुरी से किया। परन्तु, अंततः कर्नल ईवाम यह विद्रोह दबाने में सफल हुआ। वहां के कई विद्रोही परिवारों ने वर्तमान राजस्थान के बाड़मेर और जैसलमेर के इलाकों में शरण ली। पाकिस्तान से सटे बाड़मेर इलाके में बसे मेघवाल और कोली परिवारों में उस विद्रोह के कई शरणापन्न परिवारों के वंशधर है। मई 1859 में कर्नल ईवाम द्वारा दबाया गया यह विद्रोह पूरी तरह से उस समय शांत नहीं हुआ। कई मेंगवार, कोली और ब्राह्मण वहां से कूच कर कर गए थे। उन्होंने पुनः जून 1859 में संगठित होकर नगर पारकर पर धावा बोल दिया। इस समय राणा और उसका मंत्री अखाजी पकडे गये। उन पर सिंध के कोर्ट में केस चला।
मैं आपका ध्यान इस बात की ओर आकर्षित करना चाहता हूँ कि 1857 के विद्रोह में अछूत समुदायों ने सक्रिय भूमिका निभाई थी लेकिन समाज में उनका स्थान ऊँचा न होने के कारण उसे रेखांकित नहीं किया गया.
(यह जानकारी कर्नल ईवाम के गुप्त पत्राचार से।)
20. ASI Rajputana and Megs
आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया की पूर्वी राजपुताना की रपोर्ट में भी अजमेर के मेघो के बारे में बहुत ही महत्वपूर्ण विश्लेषण है। इस सीरिज के वॉल्यूम 6 में बताया गया है कि मेग यहाँ के आदि-निवासी है और उनकी सघन बस्तियों के कारण ही इसका यह नाम पड़ा। संदर्भित मूल पाठ प्रष्ट 8 पर निम्म्नवत है- "The name of Ajmer might also otherwise have been derived from the Meg's, or ..the original inhabitants of Ajmer, the south of Marwar" इसी पैरा में उन्हें यानि मेगो को अरावली के मग जातीय लोगों से भिन्न बताया है। देखे- "Meg's--- who I think, must be considered as a distinct people from mags or magma of the aravalli."
Ref: ASI report---Eastern Rajputana in 1871-72 and 1873-74 by A. C. L Carlleyle ed A Cunningham.
इसी रिपोट में आगे जयपुर के पास स्थित आमेर के नामकरण और उनकी स्थापना के बारे में जिक्र है। यह मत रखा है कि आमेर अम्बरिख नेर कहलाता था। इसके मालिक meg थे। वह यह भी लिखता है कि हमारे द्वारा मेग( मेग ) को मेर(mer) लिखना गलत है। ये लोग meg ही थे। "on the origion of Amer----Ambarikhnera-----I believe consider --Megs---and that the name of Mer,or Hair is an incorrect term invented by ourselves."page-11
इसी पुस्तक में गांवों/शहरों के नामों में लगे मेर और नेर शब्दों पर अच्छा खासा विवेचन किया गया है। अज+मेर में लगे अज शब्द को अजय शब्द से निकला हुआ नहीं माना गया और न ही अज(बकरी) शब्द से। मेर का अर्थ पर्वत या पहाड़ होता है और इस प्रकार लोग पहाड़ पर बसा शहर कह देते है। इसे गलत करार देते हुए अज यानि दादा या पूर्वज के अर्थ को लिया गया और मेर को मेघ लिया गया। इस प्रकार इस शहर का पुराना नाम अजमेघ था। जो धीरे धीरे बाद में अजमेर हो गया। वस्तुतः यहाँ मेघों की पुराणी आबादी और आधिपत्य के कारण ही इसका नाम अजमे र पड़ा।
मैंने अपनी एक पोस्ट में प्रिथ्विराजविजय महाकाव्य का एक श्लोक उद्धृत किया था। इसे उससे मिलाये। बात समझ में आ जाएगी।
दूसरा नेर शब्द का अर्थ आधिपत्य होता है। जैसे बीका के आधिपत्य की जगह को बीकानेर---आदि। अस्तु अम्बरिखनेर जो आमेर का पुराना नाम है, अर्थ हुआ अम्बरिख के आधिपत्य की जगह। बाकी आप जान लें।
इसी पुस्तक में गांवों/शहरों के नामों में लगे मेर और नेर शब्दों पर अच्छा खासा विवेचन किया गया है। अज+मेर में लगे अज शब्द को अजय शब्द से निकला हुआ नहीं माना गया और न ही अज(बकरी) शब्द से। मेर का अर्थ पर्वत या पहाड़ होता है और इस प्रकार लोग पहाड़ पर बसा शहर कह देते है। इसे गलत करार देते हुए अज यानि दादा या पूर्वज के अर्थ को लिया गया और मेर को मेघ लिया गया। इस प्रकार इस शहर का पुराना नाम अजमेघ था। जो धीरे धीरे बाद में अजमेर हो गया। वस्तुतः यहाँ मेघों की पुराणी आबादी और आधिपत्य के कारण ही इसका नाम अजमेर पड़ा।
दूसरा नेर शब्द का अर्थ आधिपत्य होता है। जैसे बीका के आधिपत्य की जगह को बिकनेर---आदि। अस्तु अम्बरिखनेर जो आमेर का पुराना नाम है, अर्थ हुआ अम्बरिख के आधिपत्य की जगह। बाकी आप जान लें।
19. Sir Cunningham and Meghs
यहाँ नीचे Alexander Cunningham द्वारा मेघो के इतिहास के बारे में और उनकी ethnology के बारे में "Archaeological Survey of India: four reports during the years 1862-63-64-65, volume-2 के पेज संख्या 11 से 13 का विवरण ज्यों का त्यों दे रहा हूँ। यह रिपोर्ट गवर्नमेंट सेंट्रल प्रेस, शिमला से 1871 में प्रकाशित हुई थी।
Sir Alexander Cunningham (23 January 1814 – 28 November 1893)
Megs.
"Connected with the Takkas by a similar inferiority of social position is the tribe of Megs, who form a large part of the population of Riyasi, Jammu, and Aknur. According to the annals of the Jammu Rajas, the ancestors of Gulab Singh were two Rajput brothers, who, after the defeat of Prithi Raj, settled on the bank of the Tohi or Tohvi River amongst the poor race of cultivators called Megs. Mr. Gardner calls them "a poor race of low caste," but more numerous than the Takkas.t In another place he ranges them amongst the lowest class of outcasts ; but this is quite contrary to my information, and is besides inconsistent with his own description of them as "cultivators." They are but little inferior, if not equal, to Takkas. I have failed in tracing their name in the middle ages, but I believe that we safely identify them with the Mekei of Aryan, who inhabited the banks of the River Saranges near its confluence with the Hydraotes.J This river has not yet been identified with certainty, but as it is mentioned immediately after the Hyphasis or Bias, it should be the same as the Satlaj. In Sauskrit the Satlaj is called Satadru, or the " hundred channeled," a name which is fairly represented by Ptolemy's Zaradrus, and also by Pliny's Hesidrus, as the Sanskrit Sata becomes Hata in many of the W. Dialects. In its upper course the commonest name is Satrudr or Satudr, a spoken form of Satudra, which is only a corruption of the Sanskrit Satadru. By many Brahmans, how ever, Satudra is considered to be the proper name, although from the meaning which they give to it of "hundred- bellied," the correct form would be Satodra. Now Arrian's Saranges is evidently connected with these various readings, as Satdnga means the '* hundred divisions," or " hundred parts," in allusion to the numerous channels which the Satlaj takes just as it leaves the hills. According to this identification the Mekei, or ancient Megs, must have inhabited the banks of the Satlaj at the time of Alexander's invasion. In confirmation of this position, I can cite the name of Megarsus, which Dionysius Periegetes gives to the Satlaj, along with the epithets of great and rapid.* This name is changed to Cymander by Aoienus, but as Priscian preserves it unaltered, it seems probable that we ought to read Mycander, which would assimilate it with the original name of Dionysius. But whatever may be the true reading of Avienus, it is most probable that we have the name of the Meg tribe preserved in the Megarsus River of Dionysius. On comparing the two names together, I think it possible that the original reading may have been Megandros, which would be equivalent to the Sanskrit Megadru, or river of the Megs. Now in this very part of the Satlaj, where the river leaves the hills, we find the important town of Makhowdl, the town of the Makh or Magh tribe, an inferior class of cultivators, who claim descent from Raja Mukh- tesar, a Sarsuti Brahman and King of Mecca ! " From him sprang Sahariya, who with his son Sal was turned out of Arabia, and migrated to the Island of Pundri; eventually they reached Mahmudsar, in Barara, to the west of Bhatinda, where they colonised seventeen villages. Thence they were driven forth, and, after sundry migrations, are now settled in the districts of Patiala, Shahabad, Thanesar, Ambala, Mustafabad, Sadhaora, and Muzafarnagar."* From this account we learn that the earliest location of the Maghs was to the westward of Bhatinda, that is, on the banks of the Satlaj. At what period they were driven from this locality they know not ; but if, as seems highly probable, the Magiaus whom Timur encountered on the banks of the Jumna and Ganges were only Maghs, their ejectment from the banks of the Satlaj must have occurred at a comparatively early period. The Megs of the Chenab have a tradition that they were driven from the plains by the early Muhammadans, a statement which we may refer either to the first inroads of Mahmud, in the beginning of the eleventh century, or to the final occupation of Lahor by his immediate successors. 3. Other
* Orljis DcsLTi1itio, V. 1145.
• Smith's Rcv1ning Family of Lahor, p. 232, and Appendix p. xxix. In the text he m.'iti* the " Tukkers" Hindus, but in the Appendix he calls the " Tuk" a " brahman caste." The two names are, however, most probably not the same. t Ibid, pp. 232, 201, and Appendix p. Xxix."
18. Col. Todd and Meghs
एलेग्जेंडर से मुकाबला करने वाली कौमों में मल्ल या मल्लोई (मेघ) लोगों का जिक्र एलेग्जेंडर के इतिहासकारों ने किया है। जिसका पहले जिक्र किया जा चूका है। मेघ लोग उसी जातीय समूह से थे। यह भी बताया जा चूका है। ओस्टियाक लोगों के साथ इनका वर्णन एशिया के इतिहास में मिलता है। मेघ लोग सिन्धु तट पर रहने वाले इन्ही मल्ल लोगों में बताये गए। सिंध से उनका विस्थापन होने पर वे सिंध के ही गुजरात और राजस्थान के थल में आ गए। विभिन्न समय पर विभिन्न समूहों में आये।
वर्तमान बाड़मेर में उनका आगमन सिकंदर के समय से मिलता है। बाद में कासिम के समय फिर बड़ा आव्रिजन हुआ। उसके बाद भी होता रहा। मल्ल लोगों के आधिपत्य के कारण इस क्षेत्र का नाम मालानी पड़ा अर्थात मल्ल लोगों का क्षेत्र। बाद में सलखा के पुत्र ने अधिपत्य बनाया पर क्षेत्र का नाम वही रहा। मल्लों (मेघों) में से अलग होकर कुछ लोग राजपूत घेरे में गए। कर्नल टॉड के विचार में राठौर और चौहान राजपूत इन्ही मल्लों से निकले। मुलतान का नाम मल्ल लोगों के कारण पड़ा। मल्ल लोगों को बहुवचन में मल्ली या मल्लोई भी कहा जाता था। पिलनी के mech या mekoi मल्ल कहे गए। भाषा और बोली में वर्णों के उच्चारण में ch क में और क ज में, ज पुनः ग व घ में बदलता है। यूनानी/ अरबी / पालि /संस्कृत के लब्ज और लिखावट को समझिये।
सत्य जो भी हो, कर्नल टॉड की कृति "अनाल्स एंड एंटिक्विटी ऑफ़ राजस्थान" के तीसरे वॉल्यूम की कुछ टिप्पणियाँ नीचे दी जा रही है, जो विचारणीय है-
Barmer or Mallani- "--whole of this region was formerly inhabitated by a tribe called malli, or mallani,who, although asserted by some to be rathore in origion, are assuredly chauhan, and of the same stock as the ancient lords of Juna Chhotan.-----" page-1272 .
"Sonagir, the ' golden maintenance' is the more ancient castle, and was adopted by chauhans as distinctive of their tribe when the older term, mallani was dropped for sonigira. Here they enshrined their tutelary divinity, mallinath, 'God of mallis,' -----when the name of sonigir was exchanged for that of jalor, -----divinity of Jalandharnath was imported from Ganges or left as well as the God of the malli by the ci- devant mallanis, is uncertain. BUT prove to be remnant of foes of Alexander, driven by him from Multan.----"page- 1266.
At footnote on page- 1266, he speaks- "Multan and Juna ( chhotan...) have the same significance, the ancient abode and both were occupied by the tribe of malli or mallanis, said to be -----"
Also at page 1279 he writes- "we must describe the descendants of the Malli, foe of Alexander, or of the no less heroic Prithviraj, as a community of thieves, who used to carry their raids into Sindh, Gujarat and Jared, to arrange themselves on private property----" and so on.
Refefence: James Tod, Annals and Antiquities of Rajasthan or the central and western Rajput states of India," Volume-3, book- 1, Oxford university press, London, 1920.
17. Meghs- Inhabitants of Satluj, Ravi and Chinab- Cunningham
जनरल कन्निंघम ने मेघों को अर्रियन के mechioi से समीकृत किया है। कन्निंघम ने आर्कियोलॉजिकल रिपोर्ट्स के वॉल्यूम-2, के पेज 11f पर उन्हें कृषि कार्यों में संलग्न निम्न जाति का वर्णित किया है। जो अलक्षन्देर (Alexander) के आक्रमण के समय सतलुज के उपरी मुहाने के निवासी थे। संभवतः मेखोवाल क़स्बे का नाम उनके कारण ही पड़ा। वे अभी भी रावी और चिनाब नदियों के इलाको में निवास करते है। सियालकोट में उनका बाहुल्य/आधिपत्य है। व्यवहारिक तौर पर वे हिन्दू है।
बीकानेर और सिरसा में कोई व्यक्ति चमार से खुश होता है, तो उसे मेघवाल पुकारता है। और अगर नाराज होता है तो उसे ढेढ़ कहता है। बागर के चमार कहते है कि वे मेघ रिख के वंशज है, जिसे नारायण ने पैदा किया था।
"General Cunningham is inclined to identify them with mechioi of Arrian, and has an interesting note on them at page 11f, volume-2 of his Archaeological Reports, in which he described them as an inferior caste of cultivators, who inhabitated the banks of the upper Sutluj at the time of Alexander's invasion, and probably gave their name to the town of Mekhowal. They seem present to be almost confined to upper valleys of the RaVi and Chanab, and their stronghold in the sub-montane portion of Sialkot lying between two rivers. They are practically all Hindus."
"In Bikaner and Sirsa a man who is pleased with a chamar calls him meghwal, just as he calls him dherh if he is angrily with him. The chamar of Bagar say they are descended from Meg Rikh, who was created by Narain."
Depressed Classes in Mewar in 1931-1941.
मेवाड़ की जनसंख्या में भी मेघवाल जाति का नाम शुमार रहा है। मेवाड़ की 1931 व 1941 की जनगणना में भी यह जातिगत नाम रहा है। कहने का तात्पर्य यह है कि मेघवाल जाति का मेघवाल नामकरण भेरूलाल जी ने नहीं किया। सं 1864 से 1872 की ASI रिपोर्टस में भी मेघ जाति का उल्लेख है। 1936 से पहले कुछ Ph.Ds भी इस जाति पर हो चुकी थी।
मेवाड़ में 1931 व 1941में हुई Census में मेवाड़ में निम्न जातियों को depressed classes लिखा गया है:👇🏽
Bagariya, Balai, Bhambhi, Bhangi, Chamar, Gancha, Kalbelia, Khateek, Koli, Sargara, Nut, Rawal, Ahedi, Dhanak, Dhed, Garuda, Kuchband, Kamaria, #Meghwal, Regar, Sansi, Sarbhangi, Thori, Tirghar, Kanjar, Dabgar---
मेवाड़ की इन दलित जातियों में मेघवाल नाम पहले से ही है, अतः यह कहना कि भेरूलाल जी ने मेघवाल नाम दिया -, तथ्यहीन और असत्य है।
यह हो सकता है कि कुछ लोगों ने इस नाम को अपनाया हो।
See : summary of census of mewar-1941,vol.4, page 179

डॉ कुसुम मेघवाल के पिताश्री भेरूलाल जी एक सामाजिक कार्यकर्ता थे। उन से दो-तीन बार मेरा मिलना हुआ। अंतिम मुलाकात एच आर जोधा के घर हुई थी। उनके जीवन के बारे में एक 12 पेज की पुस्तिका 'भेरूलाल मेघवाल फाउंडेशन' उदयपुर की ओर से प्रकाशित हुई! उनकी स्मृति को बनाये रखने के लिए फाउंडेशन द्वारा किये गए प्रयत्न स्तुत्य है।
पुस्तक में लिखी गयी कुछ बातें संगत नहीं है। यथा पेज सन्ख्या 4 पर यह दावा किया गया है कि 'हजारों वर्षों से अपमानित प्रताड़ित शुद्र जातियों को...........गहन अध्ययन कर भेरूलाल जी ने एक नाम दिया "मेघवाल" ।'
यह अतिरंजित है, क्योंकि इस से पहले यानि क़ि भेरूलाल जी के जन्म ( 1911) से पहले भी मेघवाल नाम न केवल राजपूताने में प्रचलित रहा बल्कि कई अन्य प्रदेशों में भी प्रचलन में था। यहाँ तक कि मेवाड़ की जनसंख्या में भी मेघवाल जाति का नाम शुमार रहा है। मेवाड़ की 1931 व 1941 की जनगणना में भी यह जातिगत नाम रहा है। कहने का तात्पर्य यह है कि मेघवाल जाति का मेघवाल नामकरण भेरूलाल जी ने नहीं किया। सं 1864 से 1872 की ASI रिपोर्टस में भी मेघ जाति का उल्लेख है। 1936 से पहले कुछ Ph.Ds भी इस जाति पर हो चुकी थी।
1931 व 1941के Census में मेवाड़ में निम्न जातियों को depressed classes लिखा गया है:👇🏽
Bagariya, Balai, Bhambhi, Bhangi, Chamar, Gancha, Kalbelia, Khateek, Koli, Sargara, Nut, Rawal, Ahedi, Dhanak, Dhed, Gauda, Kuchband, Kamaria, Meghwal, Regar, Sansi, Sarbhangi, Thori, Tirghar, Kanja,Dabgar--- मेवाड़ की इन दलित जातियों में मेघवाल नाम पहले से ही है, अतः यह कहना कि भेरूलाल जी ने मेघवाल नाम दिया -, तथ्यहीन और असत्य है।
यह हो सकता है कि कुछ लोगों ने इस नाम को अपनाया हो।
.............. सन् 1891 की मारवाड़ की जनसंख्या जनगणना में भी 'मेघवाल' जाति शुमार है, और भी बहुत जगह लिखित में है।....


Share/Bookmark

Marwar is Remained Ancient Land of Meghs.Tara Ram Gautam

Wednesday, April 19, 2017

MARWAR IS ANCIENT LAND OF MEGS :
IT WAS A POLITICAL UNIT OF SINDH TOO
AND IN ANCIENT TIME  UNDER PERSIAN EMPIRE.
NOMENCLATURE WAS DRIVED FROM MEG, IT IS STATED IN ASI REPORTS TOO.

मारवाड़ शब्द पर कुछ टिप्पणियां
Scattered comments on Marwar ..
प्राचीन काल में कई भौगोलिक क्षेत्रों के नाम वहां निवास करने वाले जातीय समूहों या लोगों के नाम से प्रचलित हुए, इसमें वर्त्तमान राजस्थान के कई भू भाग है, जो वहां निवास करने वाले लोगों के नाम से जाने जाते है। इनमे  "मारवाड़" नाम से विख्यात भू भाग भी एक है।
        " मारवाड़ " का नाम यहाँ निवास करने वाले म्हार लोगों के कारण ही पड़ा। म्हारों के कारण म्हार वाड, मारवाड़ आदि नाम प्रचलन में आया। यहाँ राजपूतों के आधिपत्य से पूर्व यह भू भाग म्हारों का निवास स्थान था और नाग जातीय लोगों से निवासित था। मल्ल, मालव, म्हार, मेघ एक ही जातीय समूह से माने गए है।
        म्हार,  मेर, मेव, मल्ल,   आदि जन समूहों से मारवाड़, मेर वाड, मेवाड़/मेवात, मल्लानी आदि राजस्थान के प्राचीन भू खण्डों के नाम है।
      मराठी साहित्य में इस बारे में बहुत कुछ है। विट्ठल राम जी शिंदे की पुस्तक में भी है। महार अपनी उत्पति सोमवंश से भी जोड़ते है।
           म्हार शब्द ही मा'र : मार हुआ।

     विगत कुछ शताब्दियों से मारवाड़ का अर्थ country of death कह कर प्रचलित किया गया, जो पूर्णतः गलत है। कुछ लोगों ने मरू भूमि और मरुस्थल नाम भी दिए परन्तु म्हार शब्द इतना दृढ हो गया कि कुछ भी नया नाम देने पर भी लोग इसे मारवाड़ ही पुकारते है।
            अगर मार और वाड शब्द से उत्पति माने तो भी " संस्कृत " में " मार "  शब्द नहीं मिलता है। "मार" शब्द पालि का तकनिकी शब्द है। जिसका निश्चित अर्थ पालि में है। इसप्रकार से यह भू भाग प्राचीन कल में बौद्ध धर्म की शरण स्थली रहा है, यह प्रमाणित होता है। राजपूतों की सत्ता हो जाने के बाद भी वे मारवाड़ शब्द से पीछा नहीं छुड़ा सके।
          और भी कई तथ्य है। यहाँ   R G Latham की पुस्तक की मारवाड़ शब्द पर की गयी टिप्पणी दी जा रही है-
"Marwar: From-----like all countries--------. It is Marwar, marusthan, or marudesh- not the country of death ( as has been argued ), but the country of mhars(mairs)" page- 386-387, Descriptive Ethnology, volume-2, edition-1859, London.

         "मारवाड़ शब्द मारूवार  का अपभ्रंष है। यथार्थ में इसका नाम मरुस्थल या मरुदेश है, जिसका अर्थ होता है मरे हुए लोगों का देश।-------- इतिहासवेत्ताओं ने  नासमझी से मा'र देश लिखा है।"
   उक्त पंक्ति "जोधपुर राज्य का इतिहास" पुस्तक की है। इसमे यह भी लिखा है कि मुसल्मानो ने  इसका गलत नाम "मार देश" लिखा है। 
    यह अंग्रेंजो के पहले भी मार वाड ही कहा जाता था। काठियावाड़ - मार वाड उस समय प्रशिद्ध भू भाग थे और ये नाम वहां रहने वाले लोगों के कारन ही पड़े। मोहिले, मेर, मेघ और भील आदि लोग ही यहाँ रहते थे। जिनसे प्राय नवोदित राजपूतों से संघर्ष हुए। कई पुरानी जातियों ने नए नाम अख्तियार कर लिए। कई प्रवासी हो हो गए। कइयों ने धर्म बदल लिया।
     परन्तु यह स्पष्ट है कि राजपूतों से पहले यहाँ बौद्ध धर्म ही लोक धर्म   था। जिसे ख़त्म करने के लिए ब्राह्मणवादी लोगों ने राजपूत नाम के सामाजिक और राजनितिक घटक को जन्म दिया। इसका संकेत कई जगह है। यहाँ मारवाड़ मर्दुम शुमारी-1891, से इसका संकेत दिया जा रहा है-
    "पंवार,चौहान, सोलंखी, अग्निवंशी है-------इन अग्नि वंशी राजपूतों के बारे में ऐसा कहा जाता है कि इनको बौद्ध मत वालों के मारने के लिए वशिष्ठ वगेरह ऋषियों ने आबू पहाड़ के ऊपर होम करके अग्नि कुंद से पैदा किया था।"  पृष्ठ-3,
   और भी कई प्रमाण है जो इस भू भाग को बुद्ध से जोड़ता है। कुछ जातकों में तो बुद्ध को भी यहाँ विचरण करता हुआ वर्णित किया है।
              मारवाड़ तो बहुत छोटा भूभाग है, एसिया के रेगिस्तान का। ज्यादातर हिस्सा पाकिस्तान में। जैसलमेर भी रेगिस्तान पर उसे माड देश कहते थे। बीकानेर भी रेगिस्तान पर उसे जांगल   देश कहते। बाड़मेर रेगितन पर उसे मल्लानी कहते।  रेगिस्तान के एक विशेष क्षेत्र को ही मारवाड़ कहते है। जयपुर ढूंढाड कहलाता। ये सभी मरुभूमि , पर सबको मारवाड़ नहीं कहते। अजमेर को मेरवाडा आदि आदि।
  अंग्रेजो से पहले की लिखी जियोग्राफी, इतिहास, एथ्नोग्रफी और भाषा विज्ञानं को थोडा देख लीजिये। ज्ञान में वृद्धि ही होगी। सायन, पाणिनी और मारवाड़ में प्रचलित कातंत्र व्याकरण और कच्चायन व्याकरण भी देख लीजिय, फिर बात करते है। सिंध और गुजरात का पुराना इतिहास जरुर देखे क्योंकि प्राचीन कल में यह भू भाग राजनैतिक रूप से उनका भी भाग रहा है।
               आप प्राचीन इतिहास को कैसे नकारेंगे?
राजस्थान में सबसे प्राचीन जो शिला लेख मिले है। वह ब्राह्मी लिपि और पालि भाषा मे ही  क्यों है?
राजस्थान मुजियम अजमेर में रखे नगरी के लेख को देखे- उसमे मलव गण का स्पष्ट उलेख-" कृतेसु-----मलावपुर्व्वाया"
   कोटा के कणास्वा  में मिले लेख में"---- सप्त्भिर्म्मालवेशानाम"
जयपुर के पास मिले सिक्कों में मालवां,मालवानाम, मगय आदि लेख मिलते है। ये सब मल्ल किंवा मालव लोगों के अस्तित्व को ही सिद्ध करते है। जिनका राजपूतो से पहले यहाँ राज्य था।
    जोधपुर और अजमेर के पास मिले सबसे पुराने शिलालेख भी ब्रहमी लिपि और पालि में है तो ऐसे में उस समय के शब्दों का अर्थ भी पालि से ही ग्रहण करना पड़ेगा।

             This was land of Megs- it is historical proved. You can see details in my coming books on Meghavansh: History & Culture


Share/Bookmark

Recent Posts

 
 
 

Disclaimer

http://www.meghhistory.blogspot.com does not represent or endorse the accuracy or reliability of any of the information/content of news items/articles mentioned therein. The views expressed therein are not those of the owners of the web site and any errors / omissions in the same are of the respective creators/ copyright holders. Any issues regarding errors in the content may be taken up with them directly.

Glossary of Tribes : A.S.ROSE