Meghwal Samaj

Friday, August 27, 2010

From Wikipedia, the free encyclopedia
This article does not cite any references or sources. Please help improve this article by adding citations to reliable sources. Unsourced material may be challenged and removed. (July 2007)
A Meghwal woman in Ludiya, near the border with Pakistan in Kutch District, Gujarat, India.

The people of the Meghwal tribe are originally from Marwar in Rajasthan. At the present time they are also found living in western Gujarat near the Pakistan border. In Pakistan Meghwals mostly live in the Badin, Mirpurkhas, Tharparker, and Umerkot districts of Southern Punjab. In Pakistan the word Meghwar is used at the place of Meghwal.

Meghwar(Sindhi ميگھواڙ) is one of the major social groups of South Asia. In India they are classified as a "Scheduled Caste", that is, among the castes of India that are specified in a schedule of the Indian constitution. The Meghwar people, after being humbled for many thousand years, have now improved their living standards. The word Meghwal is more often used in place of Meghwar. The word Meghwar is derived from the Sanskrit words, megh, meaning clouds and rain, and war, meaning prayers. Literally, then, the word Meghwar connotes a people who pray for rains. Meghwar people, one of the most peaceful people, believe in humanity.

Meghwar (Urdu میگھواڑ ) live principally in the Punjab and Sindh regions of Pakistan, along with the Indian states of Rajasthan, Gujarat, and some other areas of India. In Pakistan the majority of the Meghwars live in the Districts of Badin, Mirpurkhas, Tharparker, and Umerkot.

 Lifestyle

Now a days Meghwal community live in big and small cities of Gujarat.Mostly in Saurashtra region of Gujarat State. Many people living in Mumbai also.Their main Profession was weaving fabrique specially KHADI.Now a days because of education Most of doing various Government jobs in cities and in villages they are doing labour work in agriculture.Most of Meghwal People living in Bhavnagar District of Gujarat.

They live mostly in small hamlets of round, mud-brick huts painted on the outside with colourful geometric designs and decorated with detailed mirror inlays. The women are famous for their embroidery work and are master wool and cotton weavers. The men are woodcarvers and leather workers. Meghwals are considered as most peaceful among all the tribes living in Gujarat, Sindh, Rajasthan, Punjab.

The Meghwal women are renowned for their exuberantly detailed costumes and jewellery. Married Meghwal women are often spotted wearing gold nose ring, earrings and neckpieces. They were given to the bride as a "bride wealth" dowry by her soon-to-be husband's mother. Nose rings and earrings are often decorated with precious stones of ruby, sapphire and emerald. meghwars are the follower of "pir pithoro" his shrine is near mirpur khas in pithoro village.

Embroideries

The Meghwal women's embroidery is avidly sought after. Their work is distinguished by their primary use of red, which comes from a local pigment produced from crushed insects. The Meghwal women artisans of Thar desert in Sindh and Balochistan, and in Gujarat are considered master of the traditional embroidery and Ralli making. Exotic hand-embroidered items form part of dowry of Meghwal woman.

Religion

The Meghwal tribe are known to be Hindu. The Meghwals claim to descend from Rishi Megh.

During the Medieval Hindu Renaissance, known as the Bhakti Era, Karta Ram Maharaj, a Meghwal from Rajasthan became the spiritual guru of Meghwals


Share/Bookmark

10 comments:

kamlesh kumar said...

in rajasthan meghwal's est god is baba ramdev.who's tampel is in pokaran (ramdevera).

Meghwal's in madhya pradesh district at harda indore bhopal ujjain neemuch ratlam mandsaur dhar and other. our god is baba Ramdevji maharaj

This comment has been removed by the author.

कौन कहता है , बेकार है मेघवाल !
ईश्वर का आशिर्वाद है , मेघवाल !
सबसे दिलदार और दमदार है ,
मेघवाल !
रण भुमि मे तेज तलवार है ,
मेघवाल !
पता नही कितनो कि जान है ,
मेघवाल !
सच्चे प्यार पे
कुबार्न है ,
मेघवाल !
यारी करनी तो
यारो के यार है , मेघवाल !
और दुश्मन के लिए तुफान है ,
मेघवाल !
तभी तो दुनिया कहती है ,
बाप रे बहुत खतरनाक है ,
मेघवाल !
भगवान मेघवाल
भगवानाराम मेघवाल
रामदेव कॉलोनी
मुकाम पोस्ट मांडवला
जिला जालौर राजस्थान

मेघ की माया.
मेघ से पहले तो कोई नही आया,
यु तो दुनिया में सबसे पहले आया मेघवाल,
सबके तन को ढकने वाला मेघवाल ,.
भक्ति की खान है मेघवाल,
सरे जहाँ की शान है मेघवाल,
विश्वास की मूर्त है मेघवाल,
धर्म की बुनियाद है मेघवाल,
स्वामिभक्त है मेघवाल,
करुणा का सागर है मेघवाल,
ज्ञान का भंडार है मेघवाल,
और क्या- क्या कहू यारो
जब सृष्टि की शुऱुआत ही है मेघवाल,
भगवान मेघवाल

भगवानाराम मेघवाल
रामदेव कॉलोनी
मुकाम पोस्ट मांडवला
जिला जालौर राजस्थान

bloggermahiboss said...

Very nice article Regarding to
Mahi Cracks
and go for Indian Tourism
Rajasthan Tourism

Dalpat Gulsar said...

आप लोगो से निवेदन है की इस समाज के अन्दर सामाजिक क्रांति पैदा करो इन्कलाब पैदा करो तभी बाबा साहेब के सपनो को पूरा किया जा सकता है
जो भरा नहीं है भावो से , बहती जिसमे रसधार नहीं !
वो दलित नहीं मनुवादी है , जिनको जय भीम से प्यार नहीं !!
जय भीम जय कांशीराम नमोह बुद्धाय
Er.Dalpat Gulsar

Dalpat Gulsar said...

छुआछूत के विरुद्ध संघर्ष[संपादित करें:::-----

भारत सरकार अधिनियम १९१९, तैयार कर रही साउथबोरोह समिति के समक्ष, भारत के एक प्रमुख विद्वान के तौर पर अम्बेडकर को गवाही देने के लिये आमंत्रित किया गया। इस सुनवाई के दौरान, अम्बेडकर ने दलितों और अन्य धार्मिक समुदायों के लिये पृथक निर्वाचिका (separate electorates) और आरक्षण देने की वकालत की। १९२० में, बंबई में, उन्होंने साप्ताहिक मूकनायक के प्रकाशन की शुरूआत की। यह प्रकाशन जल्द ही पाठकों मे लोकप्रिय हो गया, तब्, अम्बेडकर ने इसका इस्तेमाल रूढ़िवादी हिंदू राजनेताओं व जातीय भेदभाव से लड़ने के प्रति भारतीय राजनैतिक समुदाय की अनिच्छा की आलोचना करने के लिये किया। उनके दलित वर्ग के एक सम्मेलन के दौरान दिये गये भाषण ने कोल्हापुर राज्य के स्थानीय शासक शाहू चतुर्थ को बहुत प्रभावित किया, जिनका अम्बेडकर के साथ भोजन करना रूढ़िवादी समाज मे हलचल मचा गया। अम्बेडकर ने अपनी वकालत अच्छी तरह जमा ली, और बहिष्कृत हितकारिणी सभा की स्थापना भी की जिसका उद्देश्य दलित वर्गों में शिक्षा का प्रसार और उनके सामाजिक आर्थिक उत्थान के लिये काम करना था। सन् १९२६ में, वो बंबई विधान परिषद के एक मनोनीत सदस्य बन गये। सन १९२७ में डॉ. अम्बेडकर ने छुआछूत के खिलाफ एक व्यापक आंदोलन शुरू करने का फैसला किया। उन्होंने सार्वजनिक आंदोलनों और जुलूसों के द्वारा, पेयजल के सार्वजनिक संसाधन समाज के सभी लोगों के लिये खुलवाने के साथ ही उन्होनें अछूतों को भी हिंदू मंदिरों में प्रवेश करने का अधिकार दिलाने के लिये भी संघर्ष किया। उन्होंने महड में अस्पृश्य समुदाय को भी शहर की पानी की मुख्य टंकी से पानी लेने का अधिकार दिलाने कि लिये सत्याग्रह चलाया।
१ जनवरी १९२७ को डॉ अम्बेडकर ने द्वितीय आंग्ल - मराठा युद्ध, की कोरेगाँव की लडा़ई के दौरान मारे गये भारतीय सैनिकों के सम्मान में कोरेगाँव विजय स्मारक मे एक समारोह आयोजित किया। यहाँ महार समुदाय से संबंधित सैनिकों के नाम संगमरमर के एक शिलालेख पर खुदवाये। १९२७ में, उन्होंने अपना दूसरी पत्रिका बहिष्कृत भारत शुरू की, और उसके बाद रीक्रिश्टेन्ड जनता की। उन्हें बाँबे प्रेसीडेंसी समिति मे सभी यूरोपीय सदस्यों वाले साइमन आयोग १९२८ में काम करने के लिए नियुक्त किया गया। इस आयोग के विरोध मे भारत भर में विरोध प्रदर्शन हुये, और जबकि इसकी रिपोर्ट को ज्यादातर भारतीयों द्वारा नजरअंदाज कर दिया गया, डॉ अम्बेडकर ने अलग से भविष्य के संवैधानिक सुधारों के लिये सिफारिशों लिखीं।
Er.Dalpat Gulsar

Akash Thahrani said...

Now, Meghwars are on top ranking in education in Sindh Pakistan .........

jai bhim jai bharat

Post a Comment

Recent Posts

 
 
 

Disclaimer

http://www.meghhistory.blogspot.com does not represent or endorse the accuracy or reliability of any of the information/content of news items/articles mentioned therein. The views expressed therein are not those of the owners of the web site and any errors / omissions in the same are of the respective creators/ copyright holders. Any issues regarding errors in the content may be taken up with them directly.

Glossary of Tribes : A.S.ROSE