Megh Historians tell ध्यान से पढ़ें !

Saturday, April 29, 2017

Megh
Historians tell
ध्यान से पढ़ें
23. S.N. Roy and Meghas dynasty
प्रसिद्ध इतिहासकार व पुरातत्ववेत्ता प्रोफ़ेसर एस. एन. रॉय मेघ कालीन अभिलेखों के विश्लेषण में इस राजवंश के बारे में लिखते हैं-
"Explaining the position comparatively in a greater detail, Sastri points out that dynastic text as reconstructed by Pargiter avers in the usual prophetic vein that there would flourish nine wise and powerful kings well known as Maghas, that according to Pargiter, the dynasties mentioned here of which Megha is one, flourished in the third century A. D., that on account of the similarity of this dynnastic designation with the word Magha found suffixed to the names of some of the members of what is popularly known as the Magha dynasty, the Meghas of the Puranas have by common consent been identified with the Maghas, that since the manuscripts of the Puranas give variant readings of the dynastic appellation, it is possible that the origional reading was Magha and the substitution of medial "e" for "a" is due to copyists, that according to the Puranas, the Meghas (or Maghas) ruled in Kosala, that in view of its association with some areas of Deccan like Mekala and Nishadha and Nala Dynasty Kosala in present context, appears to refer to south Kosala which comprised the Chhattisgarh region of Madhya Pradesh and Sambhalpur district of Orissa; that the find spot of the records of the Maghas, on the other hand in between Bandhogarh in the south to Fatehpur in the north with Kausambi approximately occupying the central position; which judging from the province of inscription, formed the southernmost part of Magha kingdom is situated at a distance of a few hundred kilometers from the northernmost portion of Chhattisgarh region, that this discripancy must be explained away if the Maghas of the inscriptions, coins and seals are taken as identical to the Meghas of the Puranas." Pages; 36-37
Reference: S N Roy, "Magha Inscriptions in the Allahabad Museum", Allahabad, 1999.
22. Megha coins- Shastri, Mitra
Shastri, Ajay Mitra, Kausambhi Hoard of Megha Coins, P.19
Maghas and Meghas:
"The Dynastic text of the Puranas as reconstructed by Pargiter avers in the usual prophetic vein that there would flourish in Kasala nine wise and powerful kings well-known as Megha1. According to Pargiter, the dynasties mentioned here, of which Megha is one, flourished in the third century A.D.2. On account of the similarity of this dynastic designation with the word megha found suffixed to the names of some of the members of what is popularly known as the Magha dynasty the Meghas of the Puranas have by common consent been identified with the Meghas3. Since the manuscripts of the Puranas give variant readings of the dynastic appellation4, it is possible that the original reading was Magha and that the substitution of the medial e for a is due to the copyists. Now, according to the Puranas, the Meghas (or Maghas) ruled in Kosala. In view of its mention in association with some areas of the Deccan like Mekala and Nishadha and the Nala dynasty Kosala, in the present context, appears to refer to South Kosala which comprised the Chhattisgarh region of Madhya Pradesh and the Sambalpur District of Orissa. The find-spots of the records of the Maghas, on the other hand, lie between Bandhogarh in the south to Fatehpur in the north with Kausambi occupying an approximately central position. Bandhogarh, which, judging from the provenance of inscriptions5, formed the southernmost point of the Magha kingdom, is situated at a distance of a few hundred kilometers from the northernmost portions of the Chhattisgarh region. This discrepancy must be explained away if the Maghas of inscriptions, coins and seals are to be taken as identical with the Meghas of Puranas. Three alternative explanations may be suggested. First, possibly the dominions of some of the Magha chiefs extended as far south as Dakshina Kosala6 or touched upon its borders though, it must be admitted, no record of the dynasty has been reported from anywhere within or close to this area. Secondly, northern borders of Dakshina Kosala may, at one time, have extended much further than the Chhattisgarh area so as to touch upon or cover the Bandhogarh region7. And lastly, it is possible that the Puranas have erroneously referred to Kasala instead of Vatsa or some other geographical name as the dominion of the Meghas. Such errors are not very rare in the Puranas. And if none of these alternatives is found acceptable, the Meghas of the Puranas will have to be treated as different from the Maghas of our archaeological records and a search for the archaeological records of the Meghas will have to be instituted."
R E F E R E N C E S
1. Kosalayam tu rajano bhavishyanti mahabalah, Megha iti samakhyata buddhimanto nav-aiva tu.
Medya and Medhatithi are given as variants in place of Megha and Megha iti respectively. F. E. Pargiter, The Purana Text of the Dynasties of the Kali Age, p.51
2. Ibid., pp. 50, 73
3. This view is, however, not accepted by some scholars. See Jagannath Agrawala in Comprehensive History of India, II, p.259, note
4. Medya and Medhatithi are mentioned by Pargiter as variants in place of Megha and Megha iti respectively. See The Purana Text of Dynasties of the Kali Age, p.51, note 21.
5. According to K.D. Bajpai, some Magha coins also have been found at Bandhogarh.
6. Altekar thinks it possible that in the heyday of their glory, the Magha kings ruled over wide territories extending from Bilaspur in the south to Fatehpur in the north, vide JGJRI, I, P.159.
7. Limits of provinces are known to have changed with political vicissitudes. To cite an example, Dakshina Kosala once appears to have included a part of Vidarbha. The senkapat inscription of the time of the Panduvamsi king Maha-Sivagupta Balarjuna of South Kosala shows that the dominions of his predecessor Nannaraja reached as far as the banks of the river Varada, mod. Wardha, a tributary of the Godavari. See EI, XXXI, pp.35-36.
21. Col. Evam (1857 विद्रोह)
1857 का विद्रोह और थार पारकर के अछूतों का योगदान:
सन 1862 में यहाँ पर नगर पालिका का गठन हुआ। इस कसबे में वस्त्रों की कताई-बुनाई का व्यवसाय कभी प्रसिद्धि पर था। जिसमें वहां के मेंगवार परिवार कई पीढ़ियों से इस हुनर के सिद्धहस्त कारीगर बहुतायत से इस आजीविका में संलग्न थे। जब सन 1862 में नगर पालिका का गठन हुआ तब इस कसबे की जनसंख्या लगभग 2355 आंकी गयी थी जिनमें 539 मुसलमान और 1816 हिन्दू थे। हिन्दुओं में सर्वाधिक मेंगवार, कोली, लोहान और ब्राह्मण थे।
कपास पर अत्यधिक टेक्स, बुनाई पर टेक्स, व्यापर पर चुंगी का अत्यधिक भार, खेती-बाड़ी पर टेक्स आदि ने जनता में असंतोष को बढ़ा दिया था। अतः जब देश के अन्य भागों में 1857 का विद्रोह हुआ तो यहाँ भी चिन्गारी लग गयी और मेंगावारों सहित यहाँ की प्रजा राणा के पास गयी। राणा उस समय अंग्रेजों का कारिन्दा ही था परन्तु उसने प्रजा का साथ देने का निश्चय किया और राज के विरुद्ध खुले रूप में विद्रोह का सूत्रपात हो गया। जिसमें वहां के मेंगवारों ने बढ़-चढ़ कर इस विद्रोह में हिस्सा लिया। पहली बात तो यह थी कि उनका कताई-बुनाई के पर अत्यधिक टेक्स भार होने से जीना दूभर था, दूसरा कृषि आधारित उनके जीवन पर भी दोहरी मार पड़ रही थी। उनकी आबादी भी ज्यादा थी।
इस विद्रोह में वे बुरी तरह से दब गए। अंग्रेजों ने इस विद्रोह को दबाने हेतु मई 1859 में कर्नल इवाम के नेतृत्व में नगर पारकर सैन्य टुकड़ी भेजी। जिसका मुकाबला वहां की प्रजा ने बड़ी बहादुरी से किया। परन्तु, अंततः कर्नल ईवाम यह विद्रोह दबाने में सफल हुआ। वहां के कई विद्रोही परिवारों ने वर्तमान राजस्थान के बाड़मेर और जैसलमेर के इलाकों में शरण ली। पाकिस्तान से सटे बाड़मेर इलाके में बसे मेघवाल और कोली परिवारों में उस विद्रोह के कई शरणापन्न परिवारों के वंशधर है। मई 1859 में कर्नल ईवाम द्वारा दबाया गया यह विद्रोह पूरी तरह से उस समय शांत नहीं हुआ। कई मेंगवार, कोली और ब्राह्मण वहां से कूच कर कर गए थे। उन्होंने पुनः जून 1859 में संगठित होकर नगर पारकर पर धावा बोल दिया। इस समय राणा और उसका मंत्री अखाजी पकडे गये। उन पर सिंध के कोर्ट में केस चला।
मैं आपका ध्यान इस बात की ओर आकर्षित करना चाहता हूँ कि 1857 के विद्रोह में अछूत समुदायों ने सक्रिय भूमिका निभाई थी लेकिन समाज में उनका स्थान ऊँचा न होने के कारण उसे रेखांकित नहीं किया गया.
(यह जानकारी कर्नल ईवाम के गुप्त पत्राचार से।)
20. ASI Rajputana and Megs
आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया की पूर्वी राजपुताना की रपोर्ट में भी अजमेर के मेघो के बारे में बहुत ही महत्वपूर्ण विश्लेषण है। इस सीरिज के वॉल्यूम 6 में बताया गया है कि मेग यहाँ के आदि-निवासी है और उनकी सघन बस्तियों के कारण ही इसका यह नाम पड़ा। संदर्भित मूल पाठ प्रष्ट 8 पर निम्म्नवत है- "The name of Ajmer might also otherwise have been derived from the Meg's, or ..the original inhabitants of Ajmer, the south of Marwar" इसी पैरा में उन्हें यानि मेगो को अरावली के मग जातीय लोगों से भिन्न बताया है। देखे- "Meg's--- who I think, must be considered as a distinct people from mags or magma of the aravalli."
Ref: ASI report---Eastern Rajputana in 1871-72 and 1873-74 by A. C. L Carlleyle ed A Cunningham.
इसी रिपोट में आगे जयपुर के पास स्थित आमेर के नामकरण और उनकी स्थापना के बारे में जिक्र है। यह मत रखा है कि आमेर अम्बरिख नेर कहलाता था। इसके मालिक meg थे। वह यह भी लिखता है कि हमारे द्वारा मेग( मेग ) को मेर(mer) लिखना गलत है। ये लोग meg ही थे। "on the origion of Amer----Ambarikhnera-----I believe consider --Megs---and that the name of Mer,or Hair is an incorrect term invented by ourselves."page-11
इसी पुस्तक में गांवों/शहरों के नामों में लगे मेर और नेर शब्दों पर अच्छा खासा विवेचन किया गया है। अज+मेर में लगे अज शब्द को अजय शब्द से निकला हुआ नहीं माना गया और न ही अज(बकरी) शब्द से। मेर का अर्थ पर्वत या पहाड़ होता है और इस प्रकार लोग पहाड़ पर बसा शहर कह देते है। इसे गलत करार देते हुए अज यानि दादा या पूर्वज के अर्थ को लिया गया और मेर को मेघ लिया गया। इस प्रकार इस शहर का पुराना नाम अजमेघ था। जो धीरे धीरे बाद में अजमेर हो गया। वस्तुतः यहाँ मेघों की पुराणी आबादी और आधिपत्य के कारण ही इसका नाम अजमे र पड़ा।
मैंने अपनी एक पोस्ट में प्रिथ्विराजविजय महाकाव्य का एक श्लोक उद्धृत किया था। इसे उससे मिलाये। बात समझ में आ जाएगी।
दूसरा नेर शब्द का अर्थ आधिपत्य होता है। जैसे बीका के आधिपत्य की जगह को बीकानेर---आदि। अस्तु अम्बरिखनेर जो आमेर का पुराना नाम है, अर्थ हुआ अम्बरिख के आधिपत्य की जगह। बाकी आप जान लें।
इसी पुस्तक में गांवों/शहरों के नामों में लगे मेर और नेर शब्दों पर अच्छा खासा विवेचन किया गया है। अज+मेर में लगे अज शब्द को अजय शब्द से निकला हुआ नहीं माना गया और न ही अज(बकरी) शब्द से। मेर का अर्थ पर्वत या पहाड़ होता है और इस प्रकार लोग पहाड़ पर बसा शहर कह देते है। इसे गलत करार देते हुए अज यानि दादा या पूर्वज के अर्थ को लिया गया और मेर को मेघ लिया गया। इस प्रकार इस शहर का पुराना नाम अजमेघ था। जो धीरे धीरे बाद में अजमेर हो गया। वस्तुतः यहाँ मेघों की पुराणी आबादी और आधिपत्य के कारण ही इसका नाम अजमेर पड़ा।
दूसरा नेर शब्द का अर्थ आधिपत्य होता है। जैसे बीका के आधिपत्य की जगह को बिकनेर---आदि। अस्तु अम्बरिखनेर जो आमेर का पुराना नाम है, अर्थ हुआ अम्बरिख के आधिपत्य की जगह। बाकी आप जान लें।
19. Sir Cunningham and Meghs
यहाँ नीचे Alexander Cunningham द्वारा मेघो के इतिहास के बारे में और उनकी ethnology के बारे में "Archaeological Survey of India: four reports during the years 1862-63-64-65, volume-2 के पेज संख्या 11 से 13 का विवरण ज्यों का त्यों दे रहा हूँ। यह रिपोर्ट गवर्नमेंट सेंट्रल प्रेस, शिमला से 1871 में प्रकाशित हुई थी।
Sir Alexander Cunningham (23 January 1814 – 28 November 1893)
Megs.
"Connected with the Takkas by a similar inferiority of social position is the tribe of Megs, who form a large part of the population of Riyasi, Jammu, and Aknur. According to the annals of the Jammu Rajas, the ancestors of Gulab Singh were two Rajput brothers, who, after the defeat of Prithi Raj, settled on the bank of the Tohi or Tohvi River amongst the poor race of cultivators called Megs. Mr. Gardner calls them "a poor race of low caste," but more numerous than the Takkas.t In another place he ranges them amongst the lowest class of outcasts ; but this is quite contrary to my information, and is besides inconsistent with his own description of them as "cultivators." They are but little inferior, if not equal, to Takkas. I have failed in tracing their name in the middle ages, but I believe that we safely identify them with the Mekei of Aryan, who inhabited the banks of the River Saranges near its confluence with the Hydraotes.J This river has not yet been identified with certainty, but as it is mentioned immediately after the Hyphasis or Bias, it should be the same as the Satlaj. In Sauskrit the Satlaj is called Satadru, or the " hundred channeled," a name which is fairly represented by Ptolemy's Zaradrus, and also by Pliny's Hesidrus, as the Sanskrit Sata becomes Hata in many of the W. Dialects. In its upper course the commonest name is Satrudr or Satudr, a spoken form of Satudra, which is only a corruption of the Sanskrit Satadru. By many Brahmans, how ever, Satudra is considered to be the proper name, although from the meaning which they give to it of "hundred- bellied," the correct form would be Satodra. Now Arrian's Saranges is evidently connected with these various readings, as Satdnga means the '* hundred divisions," or " hundred parts," in allusion to the numerous channels which the Satlaj takes just as it leaves the hills. According to this identification the Mekei, or ancient Megs, must have inhabited the banks of the Satlaj at the time of Alexander's invasion. In confirmation of this position, I can cite the name of Megarsus, which Dionysius Periegetes gives to the Satlaj, along with the epithets of great and rapid.* This name is changed to Cymander by Aoienus, but as Priscian preserves it unaltered, it seems probable that we ought to read Mycander, which would assimilate it with the original name of Dionysius. But whatever may be the true reading of Avienus, it is most probable that we have the name of the Meg tribe preserved in the Megarsus River of Dionysius. On comparing the two names together, I think it possible that the original reading may have been Megandros, which would be equivalent to the Sanskrit Megadru, or river of the Megs. Now in this very part of the Satlaj, where the river leaves the hills, we find the important town of Makhowdl, the town of the Makh or Magh tribe, an inferior class of cultivators, who claim descent from Raja Mukh- tesar, a Sarsuti Brahman and King of Mecca ! " From him sprang Sahariya, who with his son Sal was turned out of Arabia, and migrated to the Island of Pundri; eventually they reached Mahmudsar, in Barara, to the west of Bhatinda, where they colonised seventeen villages. Thence they were driven forth, and, after sundry migrations, are now settled in the districts of Patiala, Shahabad, Thanesar, Ambala, Mustafabad, Sadhaora, and Muzafarnagar."* From this account we learn that the earliest location of the Maghs was to the westward of Bhatinda, that is, on the banks of the Satlaj. At what period they were driven from this locality they know not ; but if, as seems highly probable, the Magiaus whom Timur encountered on the banks of the Jumna and Ganges were only Maghs, their ejectment from the banks of the Satlaj must have occurred at a comparatively early period. The Megs of the Chenab have a tradition that they were driven from the plains by the early Muhammadans, a statement which we may refer either to the first inroads of Mahmud, in the beginning of the eleventh century, or to the final occupation of Lahor by his immediate successors. 3. Other
* Orljis DcsLTi1itio, V. 1145.
• Smith's Rcv1ning Family of Lahor, p. 232, and Appendix p. xxix. In the text he m.'iti* the " Tukkers" Hindus, but in the Appendix he calls the " Tuk" a " brahman caste." The two names are, however, most probably not the same. t Ibid, pp. 232, 201, and Appendix p. Xxix."
18. Col. Todd and Meghs
एलेग्जेंडर से मुकाबला करने वाली कौमों में मल्ल या मल्लोई (मेघ) लोगों का जिक्र एलेग्जेंडर के इतिहासकारों ने किया है। जिसका पहले जिक्र किया जा चूका है। मेघ लोग उसी जातीय समूह से थे। यह भी बताया जा चूका है। ओस्टियाक लोगों के साथ इनका वर्णन एशिया के इतिहास में मिलता है। मेघ लोग सिन्धु तट पर रहने वाले इन्ही मल्ल लोगों में बताये गए। सिंध से उनका विस्थापन होने पर वे सिंध के ही गुजरात और राजस्थान के थल में आ गए। विभिन्न समय पर विभिन्न समूहों में आये।
वर्तमान बाड़मेर में उनका आगमन सिकंदर के समय से मिलता है। बाद में कासिम के समय फिर बड़ा आव्रिजन हुआ। उसके बाद भी होता रहा। मल्ल लोगों के आधिपत्य के कारण इस क्षेत्र का नाम मालानी पड़ा अर्थात मल्ल लोगों का क्षेत्र। बाद में सलखा के पुत्र ने अधिपत्य बनाया पर क्षेत्र का नाम वही रहा। मल्लों (मेघों) में से अलग होकर कुछ लोग राजपूत घेरे में गए। कर्नल टॉड के विचार में राठौर और चौहान राजपूत इन्ही मल्लों से निकले। मुलतान का नाम मल्ल लोगों के कारण पड़ा। मल्ल लोगों को बहुवचन में मल्ली या मल्लोई भी कहा जाता था। पिलनी के mech या mekoi मल्ल कहे गए। भाषा और बोली में वर्णों के उच्चारण में ch क में और क ज में, ज पुनः ग व घ में बदलता है। यूनानी/ अरबी / पालि /संस्कृत के लब्ज और लिखावट को समझिये।
सत्य जो भी हो, कर्नल टॉड की कृति "अनाल्स एंड एंटिक्विटी ऑफ़ राजस्थान" के तीसरे वॉल्यूम की कुछ टिप्पणियाँ नीचे दी जा रही है, जो विचारणीय है-
Barmer or Mallani- "--whole of this region was formerly inhabitated by a tribe called malli, or mallani,who, although asserted by some to be rathore in origion, are assuredly chauhan, and of the same stock as the ancient lords of Juna Chhotan.-----" page-1272 .
"Sonagir, the ' golden maintenance' is the more ancient castle, and was adopted by chauhans as distinctive of their tribe when the older term, mallani was dropped for sonigira. Here they enshrined their tutelary divinity, mallinath, 'God of mallis,' -----when the name of sonigir was exchanged for that of jalor, -----divinity of Jalandharnath was imported from Ganges or left as well as the God of the malli by the ci- devant mallanis, is uncertain. BUT prove to be remnant of foes of Alexander, driven by him from Multan.----"page- 1266.
At footnote on page- 1266, he speaks- "Multan and Juna ( chhotan...) have the same significance, the ancient abode and both were occupied by the tribe of malli or mallanis, said to be -----"
Also at page 1279 he writes- "we must describe the descendants of the Malli, foe of Alexander, or of the no less heroic Prithviraj, as a community of thieves, who used to carry their raids into Sindh, Gujarat and Jared, to arrange themselves on private property----" and so on.
Refefence: James Tod, Annals and Antiquities of Rajasthan or the central and western Rajput states of India," Volume-3, book- 1, Oxford university press, London, 1920.
17. Meghs- Inhabitants of Satluj, Ravi and Chinab- Cunningham
जनरल कन्निंघम ने मेघों को अर्रियन के mechioi से समीकृत किया है। कन्निंघम ने आर्कियोलॉजिकल रिपोर्ट्स के वॉल्यूम-2, के पेज 11f पर उन्हें कृषि कार्यों में संलग्न निम्न जाति का वर्णित किया है। जो अलक्षन्देर (Alexander) के आक्रमण के समय सतलुज के उपरी मुहाने के निवासी थे। संभवतः मेखोवाल क़स्बे का नाम उनके कारण ही पड़ा। वे अभी भी रावी और चिनाब नदियों के इलाको में निवास करते है। सियालकोट में उनका बाहुल्य/आधिपत्य है। व्यवहारिक तौर पर वे हिन्दू है।
बीकानेर और सिरसा में कोई व्यक्ति चमार से खुश होता है, तो उसे मेघवाल पुकारता है। और अगर नाराज होता है तो उसे ढेढ़ कहता है। बागर के चमार कहते है कि वे मेघ रिख के वंशज है, जिसे नारायण ने पैदा किया था।
"General Cunningham is inclined to identify them with mechioi of Arrian, and has an interesting note on them at page 11f, volume-2 of his Archaeological Reports, in which he described them as an inferior caste of cultivators, who inhabitated the banks of the upper Sutluj at the time of Alexander's invasion, and probably gave their name to the town of Mekhowal. They seem present to be almost confined to upper valleys of the RaVi and Chanab, and their stronghold in the sub-montane portion of Sialkot lying between two rivers. They are practically all Hindus."
"In Bikaner and Sirsa a man who is pleased with a chamar calls him meghwal, just as he calls him dherh if he is angrily with him. The chamar of Bagar say they are descended from Meg Rikh, who was created by Narain."
Depressed Classes in Mewar in 1931-1941.
मेवाड़ की जनसंख्या में भी मेघवाल जाति का नाम शुमार रहा है। मेवाड़ की 1931 व 1941 की जनगणना में भी यह जातिगत नाम रहा है। कहने का तात्पर्य यह है कि मेघवाल जाति का मेघवाल नामकरण भेरूलाल जी ने नहीं किया। सं 1864 से 1872 की ASI रिपोर्टस में भी मेघ जाति का उल्लेख है। 1936 से पहले कुछ Ph.Ds भी इस जाति पर हो चुकी थी।
मेवाड़ में 1931 व 1941में हुई Census में मेवाड़ में निम्न जातियों को depressed classes लिखा गया है:👇🏽
Bagariya, Balai, Bhambhi, Bhangi, Chamar, Gancha, Kalbelia, Khateek, Koli, Sargara, Nut, Rawal, Ahedi, Dhanak, Dhed, Garuda, Kuchband, Kamaria, #Meghwal, Regar, Sansi, Sarbhangi, Thori, Tirghar, Kanjar, Dabgar---
मेवाड़ की इन दलित जातियों में मेघवाल नाम पहले से ही है, अतः यह कहना कि भेरूलाल जी ने मेघवाल नाम दिया -, तथ्यहीन और असत्य है।
यह हो सकता है कि कुछ लोगों ने इस नाम को अपनाया हो।
See : summary of census of mewar-1941,vol.4, page 179

डॉ कुसुम मेघवाल के पिताश्री भेरूलाल जी एक सामाजिक कार्यकर्ता थे। उन से दो-तीन बार मेरा मिलना हुआ। अंतिम मुलाकात एच आर जोधा के घर हुई थी। उनके जीवन के बारे में एक 12 पेज की पुस्तिका 'भेरूलाल मेघवाल फाउंडेशन' उदयपुर की ओर से प्रकाशित हुई! उनकी स्मृति को बनाये रखने के लिए फाउंडेशन द्वारा किये गए प्रयत्न स्तुत्य है।
पुस्तक में लिखी गयी कुछ बातें संगत नहीं है। यथा पेज सन्ख्या 4 पर यह दावा किया गया है कि 'हजारों वर्षों से अपमानित प्रताड़ित शुद्र जातियों को...........गहन अध्ययन कर भेरूलाल जी ने एक नाम दिया "मेघवाल" ।'
यह अतिरंजित है, क्योंकि इस से पहले यानि क़ि भेरूलाल जी के जन्म ( 1911) से पहले भी मेघवाल नाम न केवल राजपूताने में प्रचलित रहा बल्कि कई अन्य प्रदेशों में भी प्रचलन में था। यहाँ तक कि मेवाड़ की जनसंख्या में भी मेघवाल जाति का नाम शुमार रहा है। मेवाड़ की 1931 व 1941 की जनगणना में भी यह जातिगत नाम रहा है। कहने का तात्पर्य यह है कि मेघवाल जाति का मेघवाल नामकरण भेरूलाल जी ने नहीं किया। सं 1864 से 1872 की ASI रिपोर्टस में भी मेघ जाति का उल्लेख है। 1936 से पहले कुछ Ph.Ds भी इस जाति पर हो चुकी थी।
1931 व 1941के Census में मेवाड़ में निम्न जातियों को depressed classes लिखा गया है:👇🏽
Bagariya, Balai, Bhambhi, Bhangi, Chamar, Gancha, Kalbelia, Khateek, Koli, Sargara, Nut, Rawal, Ahedi, Dhanak, Dhed, Gauda, Kuchband, Kamaria, Meghwal, Regar, Sansi, Sarbhangi, Thori, Tirghar, Kanja,Dabgar--- मेवाड़ की इन दलित जातियों में मेघवाल नाम पहले से ही है, अतः यह कहना कि भेरूलाल जी ने मेघवाल नाम दिया -, तथ्यहीन और असत्य है।
यह हो सकता है कि कुछ लोगों ने इस नाम को अपनाया हो।
.............. सन् 1891 की मारवाड़ की जनसंख्या जनगणना में भी 'मेघवाल' जाति शुमार है, और भी बहुत जगह लिखित में है।....


Share/Bookmark

0 comments:

Post a Comment

Recent Posts

 
 
 

Disclaimer

http://www.meghhistory.blogspot.com does not represent or endorse the accuracy or reliability of any of the information/content of news items/articles mentioned therein. The views expressed therein are not those of the owners of the web site and any errors / omissions in the same are of the respective creators/ copyright holders. Any issues regarding errors in the content may be taken up with them directly.

Glossary of Tribes : A.S.ROSE